Uncategorizedभोपालमध्य-प्रदेश

MP में रूठा-रूठा मानसून:तीन दिन गर्मी से राहत नहीं

लो-प्रेशर एरिया नहीं बन रहे, अगले 24 घंटे में सिर्फ भोपाल-इंदौर और उज्जैन में गरज-चमक की संभावना भोपाल

मध्यप्रदेश में जून की शुरुआत में मानसून जमकर बरसा, लेकिन अब बारिश नहीं होने से उमस लोगों को परेशान कर रही है। मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि अगले तीन दिन तक गर्मी से राहत की उम्मीद नहीं है। लो-प्रेशर एरिया नहीं बनने के कारण ऐसा हो रहा है। इधर, मौसम विभाग ने भोपाल, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद और शहडोल संभागों में कुछ जगह गरज-चमक के बौछारें पढ़ने की संभावना व्यक्त की है। इसके अलावा, कुछ जिलों में बूंदाबांदी हो सकती है। पिछले दो दिन से बारिश नहीं होने के बाद भी औसत बारिश 81% ज्यादा है।

बारिश नहीं होने का कारण

पीके साहा ने बताया कि पहले बंगाल और फिर अरब सागर से मानसून मध्यप्रदेश में प्रवेश किया था। अब कहीं भी लो प्रेशर एरिया नहीं बन रहा है। ऐसे में मानसून कमजोर हो गया है। इसी कारण ज्यादा बारिश नहीं हो रही है। लो-प्रेशर के बनते ही बारिश होने लगेगी।

मौसम विभाग का यलो अलर्ट

मौसम विभाग ने प्रदेश के कुछ इलाकों में बारिश का यलो अलर्ट जारी किया है। शहडोल, इंदौर, भोपाल, उज्जैन और होशंगाबाद संभागों में कहीं-कहीं गरज चमक के साथ पानी गिर सकता है। इसके अलावा शहडोल, होशंगाबाद संभागों के जिलों में, रीवा, सागर, जबलपुर, भोपाल, इंदौर, उज्जैन, चंबल, ग्वालियर में कहीं-कहीं बारिश या गरज-चमक हो सकती है।

दो दिन में 27% बारिश कम हुई

मध्यप्रदेश में जून की शुरुआत में बारिश अच्छी होने के कारण औसत से अधिक बारिश रिकॉर्ड हुई थी, लेकिन धीरे-धीरे यह गिरने लगा। मौसम विभाग के अनुसार 1 जून से 19 जून तक 108% ज्यादा पानी गिर चुका था, लेकिन दो दिन से बारिश नहीं होने के कारण अब यह 27% कम होकर 81% पर पहुंच गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close