भोपाल शनिवार 21 मार्च 2020. . कोरोनावायरस ने शुक्रवार को मध्य प्रदेश में भी दस्तक दे दी। राज्य में पहली बार संक्रमण की पुष्टि जबलपुर में हुई। यहां जर्मनी और दुबई से लौटे 4 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें तीन एक ही परिवार के हैं। स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव पल्लवी जैन गोविल के मुताबिक, चारों को नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। फिलहाल ये लोग संक्रमण के पहले स्टेज पर हैं।
इससे पहले, गुरुवार को चारों की जांच की गई थी। जबलपुर मेडिकल कॉलेज की लैब में कोरोना की जांच की व्यवस्था है, इसलिए 24 घंटे में चारों की जांच रिपोर्ट आ गई। प्रशासन अब संक्रमितों के परिवारों की भी जांच करा रहा है। साथ ही यह भी सूची बनाई जा रही है कि विदेश यात्रा से लौटने के बाद चारों कहां-कहां गए और किस-किस से मिले। सभी की जांच कराई जाएगी।
रेस्तरां, भोजनालय, स्ट्रीट फूड की दुकानें अगले आदेश तक बंद
भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने शहर के सभी रेस्तरां, भोजनालय, ढाबे, पब, अहाते, सड़क किनारे खाने-पीने की दुकानें शुक्रवार रात से अगले आदेश तक बंद करने के निर्देश दिए हैं।
कमलनाथ ने प्रदेशवासियों से सतर्क रहने की अपील की
कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेशवासियों के नाम एक पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने आईसीएमआर का हवाला देते हुए बताया कि कोरोना वायरस फैलने के चार चरण हैं। पहले चरण में विदेशों से संक्रमित होकर भारत आए लोग हैं। इस वजह से मध्यप्रदेश में यह पहली स्टेज है। दूसरे चरण में स्थानीय स्तर पर संक्रमण फैलता है। इस चरण में वे लोग हैं, जो किसी विदेश से आए व्यक्ति के संपर्क में आने से कोरोना की चपेट में आए हैं। उन्होंने कहा कि इस संबंध में प्रशासन को निर्देशित किया गया है। तत्काल तत्परता से कार्यवाही करते हुए ऐसे लोगों को चिन्हित किया जाए जो विदेश से लौटे लोगों के सम्पर्क में आए हैं, ताकि उन्हें आइसोलेशन में रखा जा सके। तीसरा और थोड़ा ख़तरनाक स्तर है ‘कम्युनिटी ट्रांसमिशन’ का, जिसे लेकर बेहद सतर्क रहने की आवश्यकता है। कम्युनिटी ट्रांसमिशन तब होता है जब कोई व्यक्ति किसी ज्ञात संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए बिना या वायरस से संक्रमित देश की यात्रा किए बिना ही इसका शिकार हो जाता है। चौथा चरण होता है, जब संक्रमण स्थानीय स्तर पर महामारी का रूप ले लेता है। उन्होंने लोगों से सतर्क रहने अपील की है।
भोपाल के होटल में चार संदिग्ध
एमपी नगर जोन-2 के राजहंस होटल में आइसोलेट किए गए कोरोना के चार संदिग्ध मरीजों में से एक मरीज का सैंपल गुरुवार को दोबारा सैंपल लिया गया। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के मुताबिक, एम्स प्रशासन ने तकनीकी कारणों से सैंपल रिजेक्ट होने की सूचना दी थी। इसके साथ के तीन अन्य मरीजों की जांच पुराने सैंपल के आधार पर ही की जा रही है। हालांकि, इन मरीजों की जांच रिपोर्ट अब तक नहीं मिली है। इधर, कोरोना के संदिग्ध मरीज मिलने के बाद राजहंस होटल के सभी कर्मचारियों का स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया। सीएमएचओ सुधीर डेहरिया ने बताया कि सभी कर्मचारी स्वस्थ पाए गए हैं। संदिग्ध मरीजों को होटल के कमरे में ही क्ववारेंटाइन कर पूरे फ्लोर को खाली कराया गया है।
फ्रांस की महिला आइसोलेशन में भेजी गई
गुरुवार दोपहर करीब तीन बजे फ्रांस की एक महिला भोपाल रेलवे स्टेशन पर बैठी मिली। यात्रियों ने इसकी सूचना जीआरपी को दी। पूछताछ में उसने बताया कि वह पिछले छह महीने से भोपाल में है और खजुराहो जाने के लिए रेलवे स्टेशन पहुंची थी। जीआरपी ने एंबुलेंस से महिला को जेपी अस्पताल भेज दिया। यहां महिला को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है।
मॉल, स्कूल-कॉलेज सब बंद
शासन ने कोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए एहतियातन स्कूल-कॉलेज, मॉल, सिनेमाघर बंद कर दिए हैं। सरकार ने आठवीं तक के छात्रों को बिना परीक्षा के अगली क्लास में प्रमोट करने का निर्णय लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *