हादसे के समय इलाके में तेज तूफान आया था, मृतकों का आंकड़ा 21 हुआ, विमान का ब्लैक बॉक्स मिला

केरल में शुक्रवार शाम हुए विमान हादसे में मृतकों का आंकड़ा 21 हो गया है। इनमें दोनों पायलट भी शामिल हैं। विमान का ब्लैक बॉक्स मिल गया है। इस बीच, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में एविएशन और मीटीरियोलॉजी (मौसम विज्ञान) के एक्सपर्ट साइमन प्राउड ने दावा किया है कि हादसे के समय करिपुर में तेज तूफान आ रहा था। उन्होंने इसकी पुष्टि के लिए सैटेलाइट डेटा भी साझा किया है।
कल वंदे भारत मिशन के तहत एयर इंडिया एक्सप्रेस की फ्लाइट AXB-1344 दुबई से कोझीकोड पहुंची थी। लैंडिंग के दौरान यह रनवे से फिसलकर 35 फीट गहरी खाई में जा गिरी थी।

मलप्पुरम कलेक्टर के गोपालकृष्णन ने बताया कि विमान में 180 यात्री और 6 क्रू मेंबर थे। 149 जख्मी हुए हैं। 22 को मामूली चोटें अाई थीं, जिनकी इलाज के बाद छुट्‌टी कर दी गई। बाकी 127 का मलप्पुरम और कोझीकोड के अस्पतालों में इलाज चल रहा है। इनमें से 22 की हालत नाजुक है।
हादसे में जान गंवाने वालों में एयरफोर्स के रिटायर्ड विंग कमांडर दीपक वसंत साठे और को-पायलट अखिलेश कुमार भी शामिल हैं, जो विमान उड़ा रहे थे। हादसे में विमान के दो टुकड़े हो गए।
10 साल पहले मैंगलोर में ऐसा ही हादसा हुआ था

22 मई 2010 में मैंगलोर एयरपोर्ट पर भी ऐसा ही हादसा हुआ था। इस हादसे में 150 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। तब भी प्लेन एयर इंडिया एक्सप्रेस का था और दुबई से ही लौट रहा था। मैंगलोर भी टेबल टॉप एयरपोर्ट है। इसका मतलब है कि यह एयरपोर्ट एक पहाड़ी के ऊपर है।
गाइडलाइन पर भी सवाल
रंगनाथन के मुताबिक जब बारिश हो रही हो तो टेबलटॉप रनवे पर लैंडिंग होगी या नहीं, इसको लेकर भी कोई गाइडलाइन नहीं आई। मैंने 17 जून 2011 को सिविल एविएशन सेफ्टी एडवाइजरी कमेटी के चेयरमैन को चिट्ठी लिखी थी। इसकी कॉपी सिविल एविएशन सेक्रेटरी और डीजीसीए को भी भेजी थी। इसमें कहा था कि रनवे एंड सेफ्टी एरिया (RESA) को तुरंत 240 मीटर का करना चाहिए। साथ ही सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रनवे को छोटा करना चाहिए।

क्या होता है टेबल टॉप रनवे?

कोझीकोड एक टेबल टॉप एयरपोर्ट है। केरल के 4 एयरपोर्ट्स में कोझीकोड में सबसे छोटा रनवे है। टेबल टॉप यानी ऐसा एयरपोर्ट, जो पहाड़ी इलाके में बना है और जहां रनवे का एक सिरा या दोनों सिरे ढलान पर होते हैं। ऐसे एयरपोर्ट पर खराब मौसम के दौरान हादसे का खतरा रहता है।

मैंगलोर भी टेबल टॉप एयरपोर्ट है

22 मई 2010 में मैंगलोर एयरपोर्ट पर भी ऐसा ही हादसा हुआ था। इस हादसे में 150 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। तब भी प्लेन एयर इंडिया एक्सप्रेस का था और दुबई से ही लौट रहा था। यहां भी टेबल टॉप एयरपोर्ट है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.