सोमवार से सिर्फ दूध और दवा की दुकानें खुलेंगी, बाकी सब बंद; उल्लंघन करने पर गिरफ्तारी होगी

भोपाल. राजधानी भोपाल में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 26 हो गई है। रविवार को आठ लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इनमें तीन डॉक्टर भी हैं। सभी को एम्स में भर्ती कराया गया है। एम्स में इस समय कुल 24 संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है। दो मरीजों की तीसरी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद इन्हें अस्पताल से शुक्रवार रात डिस्चार्ज कर दिया गया था। यह पहली बार है जब एकसाथ 8 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं, प्रशासन ने संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सख्त कदम उठाए हैं। कलेक्टर तरुण पिथौडे ने कहा है कि अब केवल दूध और दवाई की दुकानों को छोड़कर बाकी दुकाने अगले आदेश तक बंद रहेंगी।

इन इलाकों में रहते हैं संक्रमित
सभी संक्रमितों के घर के आसपास का एक किलोमीटर का इलाका पूरी तरह सील कर दिया गया है। ये लोग इब्राहिम गंज, गोविंदपुरा, सागर पर्ल हाउस होशंगाबाद रोड, गणपति इन्क्लेव कोलार, कान्हा टावर, अर्चना कॉम्पलेक्स तुलसी नगर और लोहा बाजार इलाके के रहने वाले हैं। इन आठ लोगों के संपर्क में आए लोगों की सूची तैयार की जा रही है। सोमवार से स्क्रीनिंग का काम स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा शुरू किया जाएगा। परिवार के लोगों को होम क्वारैंटाइन कर दिया गया है।

प्रशासन ने उठाए सख्त कदम

जिला प्रशासन ने कहा है कि अब आम नागरिक को सिर्फ पास की दूध और दवाई की दुकान तक अकेले जाने की अनुमति होगी। नगर निगम की भोजन वितरण व्यवस्था और होम डिलेवरी चालू रहेगी। यह आदेश आज रात 12 बजे यानी 6 अप्रैल (सोमवार) से लागू हो जाएगा। इसे अगले आदेश तक लागू रखा जाएगा। इंदौर के बाद भोपाल ऐसा दूसरा शहर है, जहां टोटल लॉकडाउन लागू किया गया है। 21 दिन के लाॅकडाउन में भोपाल में अब तक मंडी और किराना स्टोर्स खुले थे, लेकिन कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने के कारण प्रशासन ने यह कदम उठाया। शनिवार को करौंद मंडी के एक सब्जी व्यापारी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद भोपाल की सभी सब्जी मंडियों को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। व्यापारी किसानों से सब्जी खरीद कर नगर निगम के माध्यम से बिक्री करेंगे।

शहर को 7 जोन में बांटा, नहीं सुधरे हालात

इससे पहले प्रशासन ने शहर में कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने के लिए शहर को 7 जोन बांट दिया था। इसके बाद भी हालत नहीं सुधरे। पुराने भोपाल में लोग पुलिस को देखते ही घर के अंदर चले जाते हैं। बाद में फिर बाहर आ जाते हैं। ये वही क्षेत्र है जहां जमात में आए 8 जमातियों को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इन जमातियों ने शहर की कई घनी बस्तियों में घूमकर धार्मिक प्रचार किया था। नए भोपाल में भी अब लोग नियमों की अनदेखी करते हुए बेवजह सड़कों पर घूमते देखे जा रहे हैं। 2 दिनों यहां सड़कों पर वाहनों से आने-जाने वालों की आवाजाही बढ़ी है।

टोटल लॉकडाउन में इन्हें छूट

मेडिकल, दूध की दुकानें और ऑनलाइन सप्लाई चालू रहेगी।
शासकीय कार्य के लिए अतिआवश्यक सेवा में लगे अधिकारी और कर्मचारी के वाहनों को इस प्रतिबंध से छूट रहेगी।
मीडिया और उनके प्रतिनिधियों को भी पहले की तरह छूट रहेगी।
आपातकालीन सेवाओं के अतिरिक्त अन्य सभी तरह के पास सस्पेंड कर दिए गए हैं।

यह उल्लंघन माना जाएगा

निजी वाहन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे। किसी भी क्षेत्र में आवाजाही पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगी।
कैंटोनटमेंट क्षेत्र से बाहर जाना और जोन के बाहर पाए जाने पर आदेश का उल्लंघन माना जायेगा और संबंधित की गिरफ्तारी की जाएगी।
सड़क पर घूमते पाए जाने पर गिरफ्तार कर कार्रवाई की जाएगी।
भीलवाड़ा, आगरा में कानून की सख्ती ने कोरोना की चेन तोड़ी, इसे लागू करवाने पर जोर

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की बैठक में देशभर के अफसरों के साथ लॉकडाउन के नियमों का पालन करवाने को लेकर रणनीति बनाई गई। इसमें आगे किस प्रकार से काम करना है, इस बारे में भी बताया गया। इसमें बताया गया कि भीलवाड़ा, आगरा में कोरोना की चेन तोड़ने के लिए जिस प्रकार से कानून का सख्ती से पालन कराया गया, उसे एक मॉडल की तरह लागू करना होगा। जहां कानून का सख्ती से पालन हुआ, वहां पर कोरोना को भगाने में सफलता मिली है। तय किया गया कि कानून का सख्ती से पालन करवाया जाए। इंदौर में भी सख्ती बढ़ाने की तैयारियां शुरू हो गई हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

AllEscort