सीरियल किलर का कबूलनामा:खुद को तांत्रिक बताता था मनीराम, पूछताछ में बोला- तांत्रिक लोगों को ऐसे ही बरगलाकर ले जाते हैं और मार डालते हैं

भोपाल.भोपाल और आसपास के जिलों में छह लोगों की जान ले चुके सीरियल किलर मनीराम ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसे नहीं पता कि वह लोगों की हत्या क्यों करता था। पुलिस ने उससे करीब 8 घंटे तक पूछताछ की।

वह छत्तीसगढ़ भागना चाहता था, लेकिन पुलिस ने मंगलवार को उसे सागर के राहतगढ़ में दबोच लिया था। पुलिस ने 74 लोगों से पूछताछ की तब जाकर 51 दिन में 58 साल के इस हत्यारे तक पहुंच सकी।

उसने कहा, ‘मैंने सुना था कि तांत्रिक ऐसे ही लोगों को बरगलाकर ले जाते हैं और मार डालते हैं। इसलिए जब आदिल ने मुझसे अपने 17 हजार रुपए मांगे तो मैं उसे भी जंगल ले गया और तंत्र विद्या करने लगा।जब उसने आंखें मूंदी तो पीछे से पत्थर मार दिया। फिर पत्थर से ही कुचलकर जान ले ली।’

मनीराम ने बताया कि उसे अपने बीबी-बच्चों से कोई लेना देना नहीं है, वह खुद कमाकर जीवन गुजारना चाहता था। पुलिस अब सीरियल किलर को बुधवार को कोर्ट में पेश करेगी। पुलिस हत्यारे को पांच दिन की रिमांड पर लेगी। एएसपी राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि वह बीते तीन साल से अपने परिवार से नहीं मिला था। 8 नवंबर को हत्या करने के बाद से जंगल-जंगल भटक रहा था। उसे लगता था कि तांत्रिक ऐसा करते हैं। इसे मानसिक विकार भी कह सकते हैं। लालच में पैसे लेना फिर पीछे से सिर पर पत्थर मारकर क्रूर तरीके से हत्या कर देना।

पुलिस के मुताबिक मनीराम मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करता था। जंगलों रहता और फल खाकर गुजारा करता था। असल में, तीन साल पहले जब वह पैरोल पर भागा था तो उसे किसी ने बताया कि अगर मोबाइल रखोगे तो पुलिस जल्दी पकड़ लेगी।

पुलिस की तीन टीमें 51 दिन से छान रही थीं जंगल
एएसपी राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि मनीराम की तलाश में पुलिस की तीन टीमें लगातार इसके रिश्तेदारों, दोस्तों से पूछताछ करके और संभावित जगहों पर तलाश कर रही थी। इसके लिए कई बार विदिशा के जंगलों में दबिश दी गई, लेकिन वह फरार हो जाता था।

भोपाल में करीब दो महीने पहले युवक की हत्या के लिए मनीराम जमीन में गड़े खजाने का लालच देकर उसे जंगल ले गया था। पुलिस ने इस मामले में आरोपी पर 20 हजार रुपए का इनाम रखा था। अब तक वह 6 लोगों की इसी तरह जंगल में ले जाकर हत्या कर चुका है।

छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव भागना चाहता था
पुलिस के मुताबिक, सीरियल किलर पांच मर्डर करने के बाद 2017 में पैरोल पर भाग गया था। इसके बाद 8 नवंबर को उसने भोपाल में वारदात को अंजाम दिया। मनीराम उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के जंगलों में भी घूम रहा था और अब वह सागर से छत्तीसगढ़ भागना चाहता था।

छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव के जंगल में उसका एक परिचित था, जो उसे बुला रहा था, उसने कहा था कि तुम यहां पर आ जाओ। मोबाइल मत लाना, जंगल में कोई नहीं पकड़ पाएगा। आराम से दोनों लोग रहेंगे। हमने इसके हर मूवमेंट पर नजर रखी, रिश्तेदार, दोस्त और हर रूट की जांच की गई। कहां पर जा सकता है, इन संभावनाओं पर काम करते रहे और आखिरकार पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *