शाह की केजरीवाल के साथ बैठक / शाह ने कहा- बेड की कमी को देखते हुए केंद्र दिल्ली को ट्रेन के 500 कोच मुहैया करवाएगा, 6 दिन में टेस्टिंग 3 गुना की जाएगी

नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इसे देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ रविवार को करीब डेढ़ घंटे चर्चा की। इसके बाद अमित शाह ने कहा कि बेड की कमी को देखते हुए मोदी सरकार दिल्ली को ट्रेनों के 500 कोच मुहैया कराएगी। इन्हें आइसोलेशन वार्ड के रूप में बदला गया है। इससे 8000 बेड उपलब्ध होंगे।

शाह-केजरीवाल की बैठक के अहम फैसले

आइसोलेशन वार्ड में बदले गए रेलवे के 500 कोच दिल्ली को दिए जाएंगे, इनमें 8000 बेड होंगे।
कंटेनमेंट जोन में कॉन्‍टैक्‍ट ट्रेसिंग का पता लगाने के लिए घर-घर जाकर हर व्यक्ति की सेहत की जांच होगी।
2 दिन में कोरोना टेस्ट दोगुना और 6 दिन में तीन गुना किए जाएंगे।
केंद्र के 5 वरिष्ठ अधिकारी दिल्ली सरकार में तैनात किए जाएंगे जो हालात पर नजर रखेंगे।
प्राइवेट अस्पतालों में कोविड के लिए तय बेड में से 60% कम रेट पर सरकार को देने होंगे।
टेस्टिंग का रेट भी नए सिरे से तय होगा। इसके लिए डॉ. पॉल की अगुआई वाली कमेटी सोमवार को रिपोर्ट सौंपेंगी।
स्काउट गाइड, एनसीसी, एनएसएस और अन्य स्वयंसेवी संस्थाओं के सदस्यों को हेल्थ वॉलंटियर के तौर पर जोड़ा जाएगा।
अंतिम संस्कार के लिए नई गाइडलाइन जारी की जाएगी, ताकि इसके लिए लंबा इंतजार नहीं करना पड़े।
दिल्ली के छोटे अस्पतालों को दिशा-निर्देश देने के लिए एम्स में हेल्पलाइन नंबर शुरू किया जा रहा है। यह नंबर सोमवार को जारी किया जाएगा। इस नंबर पर सीनियर डॉक्टर्स की कमेटी सलाह देगी।
इस महीने 13 दिन में केस दोगुना हुए
दिल्ली में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। 30 मई को राजधानी में कुल संक्रमितों की संख्या 18 हजार 549 थी, जो 13 जून को 38 हजार 958 पर पहुंच गई। यहां अब तक 14 हजार 945 मरीज ठीक हुए हैं, जबकि 22 हजार 742 का इलाज चल रहा है। 1271 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां हर दिन पांच-साढ़े पांज हजार टेस्ट किए जा रहे हैं।

दिल्ली के नर्सिंग होम्स में कोरोना के इलाज का निर्देश
दिल्ली में शनिवार को 2134 केस मिले। यह लगातार दूसरा दिन था, जब यहां 2000 से ज्यादा केस मिले। केजरीवाल सरकार ने 10 से 49 बेड तक की क्षमता वाले सभी नर्सिंग होम्स को कोविड डेडिकेटेड घोषित कर दिया है। इनके संचालकों से कहा गया है कि वे 3 दिन में अपने सभी बेड पर कोरोना मरीजों का इलाज शुरू करें। ऐसा नहीं करने पर कार्रवाई होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई थी फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना के मरीजों के इलाज में लापरवाही और लाशों के साथ हो रहे सलूक के मामले में शुक्रवार को सख्त बातें कहीं। कोर्ट ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए कहा, ‘‘अगर लाशें कचरे के ढेर में मिल रही हैं तो इंसानों के साथ जानवरों से भी बदतर सलूक किया जा रहा है। दिल्ली में तो डरा देने वाली स्थिति है। हालात ऐसे हैं कि तरस आता है। देश की राजधानी में जिस तरीके से कोरोना से निपटा जा रहा है, उसमें दिक्कतें हैं।’’

मोदी ने भी समीक्षा बैठक की थी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शनिवार को कोरोना के हालात पर समीक्षा बैठक की थी। इसमें शाह, डॉ. हर्षवर्धन, प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य सचिव, आईसीएमआर के डायरेक्टर और एम्पावर्ड ग्रुप के सदस्य शामिल हुए। बैठक के बाद पीएमओ ने बताया कि देश में कोरोना के दो तिहाई मामले 5 राज्यों में हैं। बड़े शहरों में ज्यादा संक्रमण फैल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *