राज्य में कोरोना दर बढ़ी; संक्रमण फैलने की ग्रोथ रेट 1.72 से बढ़कर 2.01 हो गई, शादियों के कारण मरीजों की संख्या बढ़ रही

भोपाल. मध्यप्रदेश में पिछले एक सप्ताह में प्रदेश के विशेषकर सीमावर्ती जिलों से कोरोना के ज्यादा मामले आने से प्रदेश की कोरोना ग्रोथ रेट बढ़ गई है। पहले संक्रमण बढ़ने की दर जहां 1.72% थी, वह अब 2.01% हो गई है। यह बात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोविड-19 की समीक्षा बैठक में कही। उन्होंने इसके साथ सभी सीमावर्ती जिलों में पब्लिक एडवाइजरी जारी करने के भी निर्देश दिए हैं। अगले सप्ताह से प्रदेश में रविवार को पूरी तरह लॉकडाउन रहेगा। मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति और व्यवस्थाओं की समीक्षा की है।
बुधवार देर रात तक प्रदेश में 409 नए मामले सामने आए

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, प्रदेश में बुधवार देर रात तक 409 नए मरीज मिल चुके थे। एक दिन पहले मंगलवार रात तक 343 नए के हुए थे। 2 दिन में ही करीब 800 संक्रमितों में कोरोना की पुष्टि हो चुकी है। अब प्रदेश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 16,036 पर पहुंच गया है। बुधवार रात तक 7 संक्रमितों के दम तोड़ने से प्रदेश में अब तक 629 लोगों की मौत हो चुकी है। एक्टिव मरीजों की संख्या 3237 से बढ़कर 3420 तक पहुंच गई। अब तक कुल 11987 लोग ठीक होकर घर वापस जा चुके हैं। बुधवार को कुल 10 हजार 378 सैंप लिए गए। इनमें से 409 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, जबकि 157 सैंपल रिजेक्ट हो गए। प्रदेश में अब कंटेनमेंट इलाके 1 हजार 313 हो गए हैं।
मुख्य सचिव एवं डीजीपी तैयार करें मैकेनिज्म

बड़वानी, मुरैना और अन्य सीमावर्ती जिलों की समीक्षा के दौरान यह तथ्य सामने आया कि वहां कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। वहां सीमा पार दूसरे प्रांतों में संक्रमण ज्यादा होने से इन जिलों में संक्रमण बढ़ रहा है। इस पर शिवराज ने मुख्य सचिव और डीजीपी को निर्देश दिए कि वे इस संबंध में मैकेनिज्म तैयार कर पब्लिक एडवाइजरी जारी करें। हमें प्रदेश में हर स्थान पर कोरोना संक्रमण को बढ़ने से हर-हाल में रोकना है।
सैनिटाइजर नहीं तो जुर्माना

शिवराज ने निर्देश दिए कि प्रदेश में मास्क का प्रयोग अनिवार्य किया गया है। इसी प्रकार शॉपिंग मॉल, कार्यालयों आदि में सैनिटाइजर रखना आवश्यक है। ऐसा न करने पर जुर्माना किया जाए। सभी स्थानों पर फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन कराना अनिवार्य होगा। अगर ऐसा नहीं किया गया, तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जाए।
किल कोरोना अभियान में 6 हजार टेस्ट रोज हो रहे
प्रदेश में किल कोरोना अभियान के अच्छे परिणाम सामने आ रहे हैं। पहले प्रदेश में टेस्टिंग क्षमता 6000 टेस्ट प्रतिदिन थी, जो इस अभियान के चलते 12104 पहुंच गई है। किल कोरोना अभियान के अंतर्गत लिए गए सैंपल की पॉजिटिविटी दर 2.2 प्रतिशत आ रही है।
इंदौर वृद्धि दर 11% से गिरकर 2.12% पर आई
इंदौर जिले की समीक्षा में पाया गया कि वहां की हालत में निरंतर सुधार हो रहा है। इंदौर में कोरोना की पॉजीटिविटी दर निरंतर कम हुई है। पहले यह दर 11 प्रतिशत तक थी, जो अब घटकर 2.12 प्रतिशत रह गई है। इंदौर में वर्तमान में 875 एक्टिव केस हैं। 3871 मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं। इंदौर में मृत्यु दर एक प्रतिशत से भी नीचे आ चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.