राजधानी में अब तक 1665 / भोपाल में 35 नए केस मिले; सहकारिता इंस्पेक्टर के पॉजिटिव आने पर कमिश्नरी को सैनिटाइज करने के बाद बंद किया

भोपाल. शुक्रवार की सुबह भोपाल में 35 नए केस मिले। वहीं राजधानी में 41 मरीज स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज भी किए गए। बाजार खुलने के साथ ही आम दिनों से ज्यादा भीड़ उमड़ रही है। अनलॉक वन के पहले पांच दिनों में 200 से ज्यादा नए मामले आए हैं। संक्रमण तेजी फैल रहा है और कोटरा सुल्तानाबाद में हर रोज नए मरीज निकल रहे हैं। इसके साथ ही हॉटस्पॉट ऐशबाद से भी मरीजों के मिलने का सिलसिला थम नहीं रहा है। शुक्रवार को पॉजिटिव मिले मरीजों में 5 बीडीए कालोनी, 5 कम्मो बाग, 3 बुधवारा, 3 शाहजहांनाबाद, 3 आचार्य नरेंद्र देव नगर और 2 अशोकागार्डन में पॉजिटिव मिले हैं।
राजधानी के संभागीय कार्यालय को बंद कर दिया गया है। यहां पर सहकारिता विभाग में काम करने वाले इंस्पेक्टर पॉजिटिव पाए गए हैं। वह दो जून तक दफ्तर में काम करने गए थे। इसके बाद गुरुवार को कमिश्नर कार्यालय को सैनिटाइज करने के बाद आज से बंद कर दिया गया है। कोटरा सुल्तानाबाद निवासी सहकारिता इंस्पेक्टर की बेटी भी कोरोना पॉजिटिव आई हैं। इन्हें एम्स के कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया है। अब भोपाल में कुल संक्रमितों की संख्या 1665 हो गई है और 61 की मौत हो चुकी है। यहां पर 1100 मरीज कोरोना से स्वस्थ हो गए हैं और 458 का इलाज किया जा रहा है।
लापरवाही तो क्यों न बढ़े संक्रमण
कोटरा सुल्तानाबाद को कंटेनमेंट एरिया घोषित कर दिया गया, लेकिन 200 मीटर की दूरी पर बाजार खुला हुआ है, नियमानुसार कंटेनमेंट क्षेत्र के एक किलोमीटर के इलाके में आवाजाही को रोक दिया जाता है और दो किलोमीटर इलाके को बफर जोन घोषित किया जाता है। गुरुवार को कोटरा सुल्तानाबाद की एक ही गली में 14 पॉजिटिव मिले हैं। इनमें 4 एक ही परिवार के हैं। यहां दो टीमों को संदिग्धों की सैंपलिंग के लिए लगाया है, लेकिन बार-बार बोलने के बाद भी लोग सैंपल देने के लिए बाहर नहीं निकल रहे थे। काफी मशक्कत के बाद दोनों टीमें ने यहां से करीब 60 लोगों के सैंपल लिए।
चिरायु अस्पताल से 41 लोग स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज

भोपाल में कोरोना से ठीक होकर मरीजों के घर लौटने का सिलसिला जारी है। शुक्रवार को यहां से 41 लोग स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज कर दिए गए। अब भोपाल में हमीदिया अस्पताल और गांधी मेडिकल कॉलेज से भी मरीज स्वस्थ होकर लौट रहे हैं। अब तक 1100 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। डिस्चार्ज होने वालों में ज्यादातर मरीज चिरायु अस्पताल में भर्ती थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.