ये है भोपाल की जालसाज गैंग

भोपाल में सरकारी विभागों में गाड़ियां किराए से लगवाने का झांसा देकर ठगी करने वाले 7 सदस्यीय गिरोह सामने आया है। गिरफ्तार आरोपियों के पास से 1 करोड़ 15 लाख रुपए कीमत की 13 कारें बरामद हुई हैं। गैंग लोगों से नई कारें खरीदवाने के बाद सरकारी विभाग में उन्हें अटैच कराने का झांसा देकर वाहन लेकर गायब हो जाता था। इसके बाद गाड़ियों के जाली दस्तावेज तैयार कर उन्हें डेढ़ से दो लाख रुपए में दूसरे शहरों में गिरवी रख देता था।

पुलिस ने इंदौर, राजगढ़, भिंड, सीहोर, रायसेन से वाहन बरामद किए हैं। पुलिस ने दावा किया कि गैंग के सरगना ने ढाई साल के अंदर 70 लोगों के साथ करीब चार करोड़ रुपए कीमत के वाहनों की ठगी कर चुका है। हालांकि, कई गाड़ी मालिक के दबाव बनाने पर आरोपी उनकी कार वापस भी कर चुका है। गैंग का सरगना पहचान के लोगों को बताता था कि उसे सरकार से गाड़ियां लगवाने का टेंडर मिला है। वह हर माह 25 से 30 हजार रुपए में किराया देने का झांसा देकर गाड़ी लेता था।

निशातपुरा थाना प्रभारी महेन्द्र सिंह चौहान ने बताया कि पुलिस के पास लोगों ने पूर्व में शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायतकर्ताओं ने बताया कि सबरी नगर निशातपुरा निवासी राजपाल सिंह राजपूत सरकारी विभागों में गाड़ी लगवाने के लिए उनसे लग्जरी कारें खरीदवाईं। इसके बाद 1 साल का एग्रीमेंट कर उनकी गाड़ी को वह ले गया। अब किराया भी नहीं दे रहा। कार भी नहीं मिल रही। पुलिस ने मामले में FIR दर्ज कर राजपूत की तलाश शुरू की।

वह पुलिस से बचने परिवार समेत गायब हो गया। उज्जैन, मथुरा में फरारी काटने के बाद वह हालही में भोपाल पहुंचा, तभी पुलिस ने उसे दबोच लिया। आरोपी ने अपने छह अन्य साथियों के साथ वारदात करना कबूली है। उसकी निशानदेही पर उसके पांच साथियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने बताया कि लोगों से किराए पर ली गई कारें प्रदेश के अलग-अलग जिलों में गिरवी रख दी हैं। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने गिरवी की गई कारें बरामद कर ली हैं।

गिरफ्तार आरोपी, अपराध में उनकी भूमिका

  • 1 राजपाल सिंह राजपूत उम्र 26 साल। सबरी नगर भानपुर में रहता है। गैंग का सरगना है। ठगी को अंजाम देने निशातपुरा में ऑफिस खोल रखा था।
  • 2 कृष्णा यादव, उम्र 31 साल। मूलत: भिंड का रहने वाला। वर्तमान में बायरलेस कालोनी भदभदा में रह रहा। राजपास से गाड़ियां लेकर गिरवी रखने का काम।
  • 3 रामस्वरूप मीना, उम्र 32 साल। ग्राम जूनापानी गुनगा का रहने वाला। लोगों को सरगना से मिलाने का काम।
  • 4 मोहम्मद सोहेल, उम्र 26 साल। न्यू जेल कॉलोनी भोपाल में रहता है। गाड़ियों को इधर-उधर करना।
  • 5 जितेंद्र नाथ, उम्र 24 साल। मूलत: ग्राम कुटखेड़ा गुनगा का रहने वाला। वर्तमान में शिव नगर कालोनी छोला में रहता है। पूर्व में गिरफ्तार हो चुका।
  • 6 रोहित मीना, उम्र 27 साल। ग्राम गंगा पिपरिया बैरसिया में रहता है। पूर्व में गिरफ्तार हो चुका। राजपाल के लिए ठगी करना।
  • 7 विनोद मीणा, करोंद का रहने वाला है। वह राजपाल का ठगी में पार्टनर है। फिलहाल फरार है।

फायदा देखकर बन गया सरगना
टीआई चौहान ने बताया कि सरगना राजपाल मूलत: गंजबासौदा का रहने वाला है। वह तीन साल पहले 10 लाख रुपए कीमती एक कार को किसी से किराए पर लिया था। इसके बाद उस कार को आरोपी ने दो लाख रुपए में गिरवी रख दी। जब वाहन मालिक ने इसकी शिकायत पुलिस से की तो गिरवी रखने वाला व्यक्ति कार को वापस कर दिया। राजपूत को पैसे नहीं देने पड़े। उसे दो लाख का फायदा हुआ। इससे वह लालच में आ गया। इसके बाद वह भोपाल आकर बड़े स्तर पर ठगी करने लगा।

15-20 लाख रुपए कीमती वाहन डेढ़-दो लाख में दिया
गैंग के सरगना ने पूछताछ में बताया कि वह 15-20 लाख रुपए कीमती वाहनों को डेढ़ से दो लाख रुपए के बीच में गिरवी रखकर पैसा हड़प लेता था। इस तरह से उसने 70 से अधिक लोगों के साथ ठगी की है। जब गिरवी रखने वाला व्यक्ति वाहन के दस्तावेज मांगता था तो आरोपी उन्हें फर्जी कागज थमा देता था। वह गिरवी रखने वाले को बताता था कि उसने उक्त गाड़ी को सालभर के लिए किराए पर लिया है। गाड़ी पर उसका ही मालिकाना हक है। लालच में आए लोग उसकी गाड़ियों को गिरवी रख लेते थे।

वॉट्सऐप कालिंग कर बताता था वाहन मिल जाएगा टीआई चौहान ने बताया कि आरोपी शातिर प्रवृत्ति का है। वह कभी भी गाड़ी मालिक के सामने नहीं आता था। लोगों से गैंग के सदस्य संपर्क करते थे। वह ठगी के शिकार लोगों को वाट्सऐप कालिंग कर बताता था कि आपका वाहन इस जगह पर खड़ा है। वाहन मालिक जब गाड़ी लेने पहुंचता तब पता चलता कि गाड़ी गिरवी रखी है। पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए गिरवी रखने वाला व्यक्ति भी गाड़ी लौटा देता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

AllEscort