यूट्यूबर्स ध्यान दें:अगर आप करेंट अफेयर्स और न्यूज के वीडियो अपलोड करते हैं,

यूट्यूब पर करेंट अफेयर्स और न्यूज के वीडियोज अपलोड करने वालों के लिए कंपनी नए नियम और शर्तें लेकर आई है। इसके तहत यूट्यूब पर चैनल चलाने वालों (क्रिएटर्स) को 5 जनवरी से पहले अपने अकाउंट की जानकारी केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय को देनी होगी।

डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर नकेल कसने की तैयारी
डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर नकेल कसने के लिए केंद्र सरकार 9 महीने पहले इंडियन इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी नियम 2021 लेकर आई थी। इसके तहत डिजिटल मीडिया के विभिन्न माध्यमों को कैटेगराइज किया गया है।

गाइडलाइन में 4 तरह के प्लेटफॉर्म्स शामिल
25 फरवरी 2021 में जारी गाइडलाइन में सरकार ने 4 तरह के प्लेटफॉर्म्स को शामिल किया है। पहला- इंटरमीडिएरीज। दूसरा- सोशल मीडिया इंटरमीडिएरीज। तीसरा- सिग्निफिकेंट सोशल मीडिया इंटरमीडिएरीज। चौथा- OTT प्लेटफॉर्म्स। इनमें से यूट्यूब इंटरमीडिएरीज के अंतर्गत आता है।

इंटरमीडिएरीज क्या होता है?
इंटरमीडिएरीज का मतलब ऐसे सर्विस प्रोवाइडर से हैं, जो यूजर्स के कंटेंट को ट्रांसमिट और पब्लिश तो करता है, लेकिन न्यूज मीडिया की तरह उस कंटेंट पर उसका कोई एडिटोरियल कंट्रोल नहीं होता। ये इंटरमीडिएरीज आपके इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स हो सकते हैं। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हो सकते हैं या ऐसी वेब सर्विसेस हो सकती हैं जो आपको कंटेंट अपलोड करने, पोस्ट करने या पब्लिश करने की इजाजत देती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.