मुंबई पहली बार चेज कर जीती, 160 से कम रन बनाकर फाइनल हारने वाली दिल्ली पहली टीम

मुंबई इंडियंस ने 5वीं बार IPL का खिताब जीता। वह सबसे ज्यादा बार टूर्नामेंट जीतने वाली टीम बन गई। रोहित की टीम ने पहली बार फाइनल में पहुंची दिल्ली कैपिटल्स को 5 विकेट से हराया। इस हार से दिल्ली के साथ एक अनचाहा रिकॉर्ड जुड़ गया। दिल्ली फाइनल में 160 से कम रन बनाकर हारने वाली पहली टीम बन गई।
उधर, 6 बार खिताबी मुकाबले में पहुंची रोहित की टीम पहली बार लक्ष्य का पीछा करके जीती है। इससे पहले 2010 के फाइनल में भी मुंबई ने चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ चेज किया था, पर यह मुकाबला वह हार गई थी।

8 गेंदे बाकी रहते मुंबई ने जीता मुकाबला

इससे पहले, दुबई के मैदान पर दिल्ली ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए 157 रन का टारगेट दिया था। इसके जवाब में मुंबई ने 18.4 ओवर में 5 विकेट गंवाकर 157 रन बनाते हुए मैच जीत लिया। टीम के लिए रोहित शर्मा ने सबसे ज्यादा 51 बॉल में 68 और ईशान किशन ने 19 बॉल में 33 रन बनाए।

मुंबई 3 बार फाइनल में 160 से कम रन का टारगेट देकर जीती

IPL के 12 सीजन में 4 टीमों ने फाइनल में 160 से कम का स्कोर बनाया और चैम्पियन बनीं। 3 बार मुंबई ने ऐसा किया। उसने 2019 में चेन्नई, 2017 में पुणे सुपरजाइएंट्स और 2013 में चेन्नई के खिलाफ 160 से कम का टारगेट डिफेंड किया। एक बार 2009 में डेक्कन चार्जर्स ने बेंगलुरु के खिलाफ 160 रन से कम का स्कोर बनाकर खिताब जीता था।

आर्चर को प्लेयर ऑफ द सीरीज चुना
ट्रेंट बोल्ट को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। उन्होंने 4 ओवर में 30 रन देकर 3 विकेट लिए। वहीं, राजस्थान रॉयल्स के जोफ्रा आर्चर को प्लेयर ऑफ द सीरीज चुना गया। उन्होंने 14 मैच में 20 विकेट लिए और 113 रन भी बनाए।

राहुल को ऑरेंज और रबाडा को पर्पल कैप
किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान लोकेश राहुल ने 14 मैच में सबसे ज्यादा 670 रन बनाते हुए ऑरेंज कैप अपने नाम की। वहीं, दिल्ली कैपिटल्स के तेज गेंदबाज कगिसो रबाडा ने पर्पल कैप जीती। उन्होंने सीजन में 17 मैच खेले, जिसमें सबसे ज्यादा 30 विकेट लिए।
दिल्ली शुरुआती झटकों से तो उबरी पर बड़ा टारगेट नहीं दे पाई

दिल्ली की शुरुआत बेहद खराब रही थी। ओपनर स्टोइनिस पहली बॉल पर आउट हुए। बोल्ट ने उन्हें कीपर के हाथों कैच करवाया। IPL इतिहास में पहली बार हुआ, जब कोई खिलाड़ी मैच की पहली बॉल पर आउट हुआ।
तीसरे ओवर में अजिंक्य रहाणे को बोल्ट ने पैवेलियन का रास्ता दिखाया तो सीजन का दूसरा मैच खेल रहे जयंत यादव ने चौथे ओवर में शिखर धवन (15) को क्लीन बोल्ड किया। 3 विकेट पर तब दिल्ली का स्कोर 22 रन था।
क्रीज पर कैप्टन श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत थे। अय्यर ने सबसे ज्यादा नाबाद 65 और ऋषभ पंत ने 56 रन की पारी खेली। IPL में यह अय्यर की 16वीं और पंत की 12वीं फिफ्टी रही। सीजन में अय्यर का तीसरी और पंत का पहला अर्धशतक रहा। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 69 बॉल पर 96 रन की पार्टनरशिप की।
पंत और अय्यर के अलावा कोई भी बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल पाया और दिल्ली की टीम 20 ओवर में 156 रन पर सिमट गई।
बतौर कप्तान फाइनल में दूसरा बेस्ट स्कोर अय्यर के नाम
अय्यर ने फाइनल में नाबाद 65 रन बनाए, यह IPL फाइनल में किसी कप्तान का दूसरा बेस्ट स्कोर है। इससे पहले यह रिकॉर्ड सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान डेविड वॉर्नर के नाम था। उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के खिलाफ 2016 के फाइनल में 69 रन बनाए थे।

बोल्ट पावर-प्ले में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज
एक सीजन में पावर-प्ले के दौरान सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में ट्रेंट बोल्ट ने मिशेल जॉनसन के रिकॉर्ड की बराबरी की। दोनों ने पावर-प्ले में 16-16 विकेट लिए हैं। बोल्ट ने 36 ओवर किए, जिसमें 13.5 की स्ट्राइक रेट और 6.72 की इकोनॉमी से 16 बल्लेबाजों को आउट किया। जॉनसन ने 2013 सीजन में यह उपलब्धि हासिल की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

AllEscort