मध्य प्रदेश में शुरू हुई 12वीं बोर्ड की परीक्षा, कोरोना को लेकर सतर्कता

मध्य प्रदेश में मंगलवार सुबह 9 बजे से 12वीं की परीक्षा शुरू हो गई पहला पेपर केमिस्ट्री का रहा। इसके बाद दोपहर 2 से 5 बजे के बीच भूगोल की परीक्षा आयोजित की जाना है। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर सभी परीक्षा केंद्रों में परीक्षार्थियों को केंद्र में प्रवेश देने से पहले उनके हाथ सैनिटाइजर से साफ करवाए गए इसके साथ ही थर्मल स्कैनर से उनका तापमान भी जांचा गया। सभी परीक्षार्थियों ने मुंह पर मास्क लगाकर पहुंचे।

परीक्षा कक्ष के अंदर भी शारीरिक दूरी बनाने के लिए एक-एक बेंच छोड़कर परीक्षार्थियों को बैठाया गया। साथ ही कई जगहों पर 6-6 फीट की दूरी पर बेंच लगाई गईं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए सभी परीक्षा केंद्रों पर केंद्राध्यक्षों ने सैनिटाइजर, थर्मल स्क्रीनिंग गन, साबुन, लिक्विड सोप सहित मास्क पहनकर न आने वाले छात्रों के लिए मास्क के भी इंतजाम किए थे। परीक्षा केंद्रों को पहले से सैनिटाइन किया गया था। परीक्षा खत्म होने के बाद इन्हें फिर से सैनिटाइज किया जाएगा।
छात्रों के बैग बाहर ही रखवा दिए

कुछ छात्र पेपर देने बैग लेकर पहुंचे, तो स्कूल के अलग कमरे में बैग रखवा दिए गए। इसके साथ छात्रों को अगले पेपर में अपने साथ बैग नहीं लगाने की सलाह दी गई। बच्चों को सिर्फ सैनिटाइजर, ग्लब्ज, मास्क, पानी की बोतल और परीक्षा के लिए पेन आदि के रखने की ही अनुमति है।
लाइन लगाकर ही अंदर जाने दिया

स्कूल के गेट पर ही छात्रों की लाइन लगवाई गई। छात्रों के हाथ सैनिटाइज कराने के बाद उनकी थर्मल स्क्रीनिंग की गई। शरीर का तापमान सामन्य आने के बाद ही उन्हें प्रवेश दिया। कोरोना लक्षण वाले छात्रों को सामान्य बच्चों से दूर दूसरे कमरों में बैठने की व्यवस्था भी की गई है। सोशल डिस्टेंसिंग समेत अन्य बातों का पालन करने के लिए सुरक्षा गार्ड और शिक्षकों द्वारा लगातार बच्चों को बताया गया।
इन छात्रों को मिलेगा एक और मौका

वर्तमान में कोरोना पॉजिटिव छात्रों से लेकर क्वारैंटाइन में रहने वाले और दिव्यांग छात्र अगर परीक्षा में शामिल नहीं हो पाते हैं, तो उनके लिए मंडल द्वारा विशेष परीक्षा आयोजित की जाएगी। अगर वह विशेष परीक्षा में शामिल होने के बाद किसी विषय में फेल हो जाते हैं, तो मंडल की हायर सेकेंडरी पूरक परीक्षा 2020 में सम्मिलित हो सकेंगे। कोरोना पॉजिटिव और क्वारैंटाइन छात्र को विशेष परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए स्वयं और परिवार के सदस्य का डिस्चार्ज सर्टिफिकेट अथवा क्वारैंटाइन सर्टिफिकेट देना होगा।
एक घंटे पहुंचना अनिवार्य है

छात्रों को पेपर शुरू होने से एक घंटे पहले परीक्षा केंद्र पर पहुंचना अनिवार्य है। परीक्षा केंद्र के अंदर जाने से पहले सभी की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। कोरोना के लक्षण पाए जाने पर संदिग्ध छात्र को अलग कमरे में बैठाकर पेपर दिलवाया जाएगा। पहली शिफ्ट में पेपर देने वाले छात्रों को सुबह 8 बजे और दूसरी शिफ्ट में परीक्षा देने वाले छात्रों को दोपहर 1 बजे परीक्षा केंद्र पर पहुंचना होगा। परीक्षा केंद्र पर पहुंचने से लेकर परीक्षा देने के दौरान सभी छात्रों को अपने-अपने चेहरे को कवर रखना होगा और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.