भोपाल में 10 दिन का लॉकडाउन:गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा- कोरोना को किसी धर्म या इबादत से न जोड़ें; राजनीति करने के बहुत सारे अवसर आते-जाते रहते हैं

कोरोना एक वैश्विक महामारी है और हर जान की सुरक्षा करनी है। इसलिए सभी जनप्रतिनिधियों से भी हमारी अपील है कि वो बीमारी पर राजनीति न करें, राजनीति के अवसर और भी मिल जाएंगे, आते और जाते रहेंगे। इसे किसी धर्म या इबादत या उससे न जोड़ें। हमारी प्राथमिकता पहले हमारे लोगों का स्वास्थ्य है और उनका जीवन है। इसलिए हम सबको मिलकर कोरोना पर काबू पाने के लिए जन जागरुकता लानी होगी।

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भोपाल में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमें अपने नागरिकों की पूरी चिंता है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिए भोपाल में लागू होने वाले लॉकडाउन की विस्तृत गाइडलाइन आज गृह विभाग जारी कर देगा। हमने इसकी पूर्व सूचना जनता को इसलिए दे दी है ताकि वो दो दिन में अगले 10 दिन की तैयारी कर लें, ऐन वक्त पर भीड़-भाड़ और आपाधापी न हो।
सभी लोगों से अपील है कि कोरोना को लेकर किसी को घबराने की जरूरत नहीं है। इससे सावधान रहने की जरूरत है। मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए पर्याप्त और नि:शुल्क व्यवस्था की है। सरकारी और निजी सभी अस्पतालों में मरीजों का इलाज हो रहा है। हर चीज की सुविधा अस्पताल में है, प्राइवेट, सरकारी अस्पताल फ्री है, दवा, बेड, इलाज, वेंटिलेटर फ्री और ऑक्सीजन फ्री है। जब हर चीज फ्री है तो फिर किसी तरह की चिंता न करें। सरकार को एक-एक नागरिक की चिंता है, सबका ख्याल रखा जा रहा है।

राजधानी के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए किया लॉकडाउन

बता दें कि भोपाल में बीते 10 दिन से हर रोज 100 से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं। इसमें बुधवार और गुरुवार को करीब 200 कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। वहीं एक कैबिनेट मंत्री भी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। ऐसी स्थिति में शिवराज सरकार ने राजधानी में 10 दिन के लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। हालांकि अचानक किए गए इस लॉकडाउन का विरोध भी हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.