भोपाल में मानसून की बारिश / देर रात तक झमाझम, पानी और बिजली ने सताया

भोपाल. बारिश के कारण चाराें तरफ दिन में धूप चटकी, लेकिन शाम 7 बजे के बाद मौसम बदल गया। घने बादल छाए और गरज- चमक के साथ बरसने लगे। तेज बारिश के कारण नए व पुराने शहर के कई इलाकों में पानी भर गया था। लेकिन नगर निगम की लापरवाही का आलम ये रहा कि लोगों की शिकायतें सुनने और राहत पहुंचाने के लिए बने कॉल सेंटर में रात में कोई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद नहीं था।
नया शहर- घरों व बेसमेंट में पानी
ज्योति टॉकीज चौराहा, रचना नगर, सुभाष नगर अंडर ब्रिज और हबीबगंज अंडरब्रिज के साथ प्रशासन अकादमी के सामने पानी जमा होने से रास्ते जाम हो गए। लिंक रोड एक पर शिवाजी प्रतिमा के पास और तुलसी नगर व शिवाजी नगर क्षेत्र में भी मकानों के सामने पानी भर गया। त्रिलंगा क्षेत्र के शुभालय परिसर, सी सेक्टर कस्तूरबा नगर में मकान नंबर 289 की छत पर बिछी सीमेंट की चादर क्षतिग्रस्त हो गई। ई-7 अरेरा काॅलोनी के कुछ मकानों में घरों में पानी भर गया। सुनहरी बाग के मकानो‌ं में भी पानी भर गया। बारिश के कारण मनीषा मार्केट शाहपुरा के सामने खुदी हुई स़ड़क पर पानी जमा होने से वाहन चालक परेशान हुए। चूना भट्टी में व्यावसायिक कांप्लेक्स और होटलों के बेसमेंट में पानी भर गया।
बैरागढ़ व लालघाटी

यहां सड़कों पर पानी जमा हो गया। सिंगारचौली के इंद्र विहार में एक पेड़ की बड़ी शाखा कुछ मकानों पर गिर गई।

पुराना शहर – नाली का पानी मकानों में भरा, करोंद में पेड़ गिरे
भोपाल टॉकीज चौराहा, अप्सरा टॉकीज, भारत टॉकीज, रेलवे स्टेशन, महामाई का बाग, टीला जमालपुरा, अशोका गार्डन सहित कई क्षेत्रों में सड़कों पर पानी भर गया। शाहजहांनाबाद में ग्रीन वैली स्कूल और आसपास के मकानों में पानी भर गया। वसुंधरा काॅलोनी और डीआईजी बंगले पर दुकान में पानी भरा। टीला जमालपुर हंसा काॅम्पलेक्स एवं करोंद इलाके में पेड़ गिरे।

दिन में बाढ़ आपदा को लेकर बैठक, रात में ये हाल
जिस समय शहर में तेज बारिश हो रही थी, नगर निगम का कंट्रोल रूम सामान्य कर्मचारियों के हवाले था, यहां कोई भी वरिष्ठ अधिकारी मौजूद नहीं था। गुरुवार को बाढ़ आपदा को लेकर हुई बैठक में संभागायुक्त कवींद्र कियावत और निगमायुक्त वीएस चौधरी कोलसानी ने एक्शन प्लान तैयार किया था। लेकिन रात में ड्यूटी अफसरों ने कॉल सेंटर कर्मचारियों के भरोसे छोड़ा।

कोलार- सीवेज लाइन के काम ने बिगाड़े हालात
राजहर्ष, बांसखेड़ी और आसपास के जिन क्षेत्रों में सीवेज लाइन का काम चल रहा है वहां घरों से निकलना मुश्किल हो गया। अंकित परिसर में कई मकानों में पानी भर गया। पानी भरने से गुस्साए यहां के रहवासियों ने मुआवजे की मांग की। यदि यह बारिश जारी रही तो शुक्रवार को इन कालोनियों में स्थिति बदतर हो जाएगी।
भेल क्षेत्र

बरखेड़ा पठानी की कृष्णा नगर इलाके में नाली का पानी कुछ मकानाें में भर गया। न्यू मिनाल रेसीडेंसी एरिया में भी पानी भर गया था। अलकापुरी राेड पर, सुंदर नगर की पुलिया के पास, साकेत नगर 9 ए, 9बी, 3 डी, 4 ए समेत कई इलाकाें में पानी भर गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.