भोपाल में देश का पहला सरकारी पंचकर्म सेंटर

कल CM करेंगे उद्घाटन, फैसिलिटीज 5 स्टार होटल की तरह

पंचकर्म के लिए अब लोगों को केरल की यात्रा नहीं करना पड़ेगी। भोपाल में ही 5 स्टार होटल फैसिलिटी के बीच केरल के थैरेपिस्ट पंचकर्म करेंगे। कलियासोत डैम के किनारे देश का पहला सरकारी पंचकर्म एंड वेलनेस सेंटर बनकर तैयार हो गया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान कल इस सेंटर का उद्घाटन करेंगे। पहाड़ी पर बने इस सेंटर में हरियाली और डैम के किनारे लोगों को पंचकर्म की फैसिलिटी मिलेगी।

पंचकर्म आयुर्वेदिक इलाज का एक तरीका है। पंचकर्म का अर्थ पांच वेरियस थेरेपीस का कॉम्बिनेशन है। इस प्रोसेस से शरीर को बीमारियों और कुपोषण द्वारा छोड़े गए विषैले पदार्थों को बाहर करने के लिए होता किया जाता है।

देश की पहली सरकारी पंचकर्म एंड वेलनेस यूनिट
पं. खुशीलाल शर्मा आयुर्वेदिक कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. उमेश शुक्ला ने बताया कि 10 करोड़ रुपए की लागत से ढाई साल में यह सेंटर बनकर तैयार हुआ है। अभी आयुर्वेदिक कॉलेज में 150 बेड की पंचकर्म यूनिट संचालित हो रही है। डेली करीब 200 मरीज अभी पंचकर्म कराते हैं। पंचकर्म के प्रति लोगों की बढ़ती रूचि और मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए हाईटेक यूनिट तैयार की गई है। अभी वर्तमान में पंचकर्म यूनिट में डेढ़ महीने की वेटिंग है। देश में संभवत: यह पहली पंचकर्म एंड वेलनेस यूनिट है, जो सरकारी संस्थान में बनाई गई है।

केरल के थैरेपिस्ट करेंगे पंचकर्म
खुशीलाल आयुर्वेदिक कॉलेज परिसर में बने पंचकर्म एवं वेलनेस सेंटर में केरल के थैरेपिस्ट पंचकर्म करेंगे। कॉलेज प्रबंधन ने केरल से थैरेपिस्ट को इस सेंटर के लिए नियुक्त किया है। आने वाले दिनों में केरल के स्टाफ की संख्या और भी बढ़ाई जाएगी। इससे लोगों को केरल जैसी सुविधाएं भोपाल में ही मिलेंगी।

5 स्टार होटल जैसे सुईट
पंचकर्म एंड वेलनेस सेंटर में कुल 50 बेड हैं। इनमें सेमी प्राइवेट वार्ड, डीलक्स रूम और 5 स्टार होटल की तरह सुपर डीलक्स रूम बनाए गए हैं। डीलक्स रूम में सिंगल और डबल बेड के साथ ही अटेंडर के रुकने की भी व्यवस्था रहेगी। सेमी प्राइवेट वार्ड में महिलाओं और पुरुषों के लिए कॉमन हॉल में बेड की व्यवस्था की गई है।

ऐसा रहेगा प्रतिदिन का चार्ज

  • सेमी प्राइवेट वार्ड: 700 रुपए प्रतिदिन (इसमें भोजन शामिल नहीं)
  • डीलक्स रूम: 3500 रुपए प्रतिदिन (भोजन, रुकने से लेकर पंचकर्म सहित)
  • सुपर डीलक्स रूम: 4900 रुपए प्रतिदिन (भोजन, रुकने से लेकर पंचकर्म सहित)

नौकरीपेशा लोग अपनी चॉइस के मुताबिक करा सकेंगे पंचकर्म
आयुर्वेदिक कॉलेज में बने पंचकर्म एंड वेलनेस सेंटर में लोग अपने काम की व्यस्तता के बीच पंचकर्म करा सकेंगे। इसके लिए OPD- वॉक इन फॉर रिजुविनेशन की सुविधा शुरू की जा रही है। इसमें लोग अपनी सुविधा के अनुसार डॉक्टर की सलाह लेकर डेली सुबह से पंचकर्म करा सकेंगे।

वेलनेस पैकेज भी हो रहे फिक्स
डॉ.उमेश शुक्ला बताते हैं कि आयुष विभाग की मंशा के अनुसार आयुर्वेदिक कॉलेज दो मुख्य थीम पर काम कर रहा है। बीमारियों के इलाज के साथ-साथ वेलनेस यानी लोगों को स्वस्थ रहने के लिए भी कई पैकेज बनाए जा रहे हैं, जिनके जरिए लोगों को बीमारियों से मुक्त रखने का प्रयास किया जाएगा।

ये पैकेज हो रहे तैयार

  • वेट मैनेजमेंट: इसमें मोटापे से ग्रस्त लोगों को उदवर्तन, रूक्षश्वेद थैरेपी दी जाएगी। इसके अलावा उनकी डाइट भी सेट करके लाइफ स्टाइल सुधारने के लिए योगा, मेडिटेशन भी सिखाया जाएगा।
  • पेरी नेटल केयर: इसमें गर्भधारण के पहले दंपती को आयुर्वेदिक दवाओं और आहार की सलाह दी जाती है। गर्भधारण के बाद गर्भवती महिला को मासिक चार्ट के मुताबिक डाइट को भी सेट किया जाता है। इसके बाद पूरे नौ महीने तक के लिए अलग-अलग प्रकार के काढ़े दिए जाते हैं। इससे गर्भस्थ शिशु स्वस्थ होता है और नॉर्मल डिलीवरी के चांस बढ़ जाते हैं।
  • स्पाइन एंड जॉइंट केयर: डिस्क प्रोलेप्स, घुटनों, कमर और सर्वाइकल के दर्द के लिए अभ्यंग (ऑइल और पावडर से मसाज), वस्ति (कटिवस्ति, ग्रीवा वस्ति) थैरेपी दी जाती है।
  • पैरालिसिस मैनेजमेंट एंड रिहैबिलिटेशन: इसमें लकवाग्रस्त मरीजों को मसल्स वीकनेस और ब्रेन को ठीक करने के लिए कई तरह की थेरेपी दी जाती है। चेहरे पर लकवे के असर को ठीक करने के लिए छीर श्वेद (दूध में अश्वगंधा और बला की भाप को चेहरे पर देने की प्रोसेस) दिया जाता है। इसके अलावा अभ्यंग और वस्ति दी जाती है। विरेचन यानी पांच दिन तक मरीज को घी पिलाया जाता है। इसके बाद तीन दिन मसाज की जाती है। नौवें दिन विरेचक औषधियां दी जाती हैं। इससे लकवे का असर कम होता है। इसके साथ ही फिजियोथेरेपी कराई जाती है।
  • स्किन एंड ब्यूटी केयर: इसमें औषधियों के लेप लगाए जाते हैं। अगर रक्त विकार के कारण कोई बीमारी हो रही है, तो उसके लिए तक्रधारा (बटरमिल्क की धारा), औषधीय तेलों की धारा पूरे शरीर में की जाती है।
  • जीरियाटिक केयर: इसमें मरीजों को बुढ़ापे की समस्याओं के मुताबिक थेरेपी दी जाती है। बुजुर्गों को अभ्यंग यानी खुद मसाज करना सिखाया जाता है। इसके अलावा डेली डाइट, योगा, मेडिटेशन सिखाया जाता है।
  • लाइफ स्टाइल डिसॉर्डर मैनेजमेंट: इसमें ह्रदय रोग, बीपी, शुगर, थायराइड और मोटापे जैसी बीमारियां मुख्यत: आती हैं। इन बीमारियों से मुक्त रखने के लिए योगा, डाइट प्लान और बीमारी के मुताबिक थेरेपी दी जाती है।

ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह होगी बुकिंग

आयुष विभाग और एमपी टूरिज्म डिपार्टमेंट इस यूनिट का संचालन करेगा। क्वालिटी फूड और अच्छी हाउसकीपिंग हो सके, इसके लिए पर्यटन विभाग काम संभालेगा। पंचकर्म यूनिट का मैनेजमेंट आयुर्वेदिक कॉलेज के जिम्मे रहेगा। इस सेंटर में पंचकर्म के लिए ऑनलाइन पोर्टल से भी लोग अपनी पसंद के रूम और सुईट बुक करा सकेंगे। सुपर डीलक्स रूम से लोग सीधे कलियासोत डैम के नजारे भी देख सकेंगे।

ये सुविधाएं भी मिलेंगी

  • सोना बाथ: इसमें विशेष प्रकार के पत्थर होते हैं। इन पत्थरों को निर्धारित टेम्परेचर पर गर्म किया जाता है। लकड़ी के बने बॉक्स में व्यक्ति को बैठाकर भाप दी जाती है।
  • जखूजी: इसमें विशेष प्रकार के बाथ टब लगवाए गए हैं। इन बाथ टब में अलग-अलग टेम्परेचर और प्रेशर पर ट्रीटेड वॉटर से स्नान की सुविधा मिलेगी।
  • स्टीम चैंबर: बॉडी के छिद्रों को खोलने के लिए स्टीम चैंबर के जरिए भाप दी जाएगी। इसके लिए मेल और फीमेल यूनिट में अलग-अलग स्टीम चैंबर बनाए गए हैं।

डाइट भी आयुर्वेदिक और वो भी कस्टमाइज होगी

इस सेंटर में भर्ती होने वाले मरीजों और लोगों को उनकी सेहत और बीमारी के मुताबिक डाइट भी आयुर्वेदिक दी जाएगी। इसमें विशेषज्ञ डॉक्टर मरीज को एक आयुर्वेदिक आहार का मेन्यू देंगे। इसमें लोग अपने मनपसंद आहार को तय कर ले सकेंगे। सेमी प्राइवेट वार्ड वालों के रूम के किराए में डाइट शामिल नहीं रहेगी, बाकी डीलक्स और सुपर डीलक्स के लिए डाइट उनके रूम फेयर पैकेज में शामिल रहेगी।

तीन मंजिला इमारत में जानिए किस फ्लोर पर क्या फैसिलिटी

  • ग्राउंड फ्लोर: कंसल्टेशन चेंबर, पैथोलॉजी, बायोकेमिस्ट्री, अल्ट्रा सोनोग्राफी, USG, ECG, EMG, डॉप्लर स्टडीज कक्ष के साथ फार्मेसी, ऑफिस, रिशेप्शन और सीटी स्कैन यूनिट।
  • फर्स्ट फ्लोर: डीलक्स रूम (8), सुपर डीलक्स रूम (1), पंचकर्म यूनिट (1 से 5), जखूजी, सौना बाथ, स्टीम चैंबर, डायनिंग हॉल, वामन रूम।
  • सेकेंड फ्लोर: डीलक्स रूम (6), सुपर डीलक्स रूम (1), पंचकर्म यूनिट (6-7), जखूजी, सौना बाथ, स्टीम चैंबर, योगा हॉल, फिजियोथेरेपी यूनिट, नर्सिंग ड्यूटी रूम।
  • थर्ड फ्लोर: डीलक्स रूम (6), सुपर डीलक्स रूम (1), सेमी प्राइवेट वार्ड (मेल, फीमेल), पंचकर्म यूनिट (8 से 12)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *