भोपाल में कोरोना का दर्द:मां का शव लेकर बेटी भटकती रही; आरोप- स्टाफ ने यूं ही छोड़ दिया

भोपाल के जयप्रकाश अस्पताल (जेपी 1250) में कोरोना संक्रमित एक महिला की मौत के बाद उनकी बेटी ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही के गंभीर आरोप लगाए हैं। उसका कहना है कि अपने चाचा के साथ वह मां का शव लेकर भटकती रही। पहले तो इलाज में देरी की गई। ऑक्सीजन सप्लाई सही से नहीं हुई। वह अस्पताल-अस्पताल कलेक्टर और मंत्री के दरवाजे तक खटखटा आई, लेकिन मदद नहीं मिली। मौत के बाद भी उसकी मां को सुकून नहीं मिला और उन्हें यूं ही छोड़ दिया गया। परिजनों ने ही रात में शव को मोर्चरी में रखा। अस्पताल प्रबंधन ने कोई जवाब नहीं दिया।
कोलार निवासी प्रियंका ने बताया कि 43 साल की मां संतोष भोपाल कोऑपरेटिव सेंट्रल बैंक कोटरा सुल्तानाबाद ब्रांच में कार्यरत थीं। पिता की 8 साल पहले मौत के बाद मां को अनुकंपा नियुक्ति मिली थी। वह 14 सितंबर को कोरोना पॉजिटिव हुई थीं। दो प्राइवेट अस्पतालों में उनसे 50-50 हजार महज 18 घंटे के अंदर ले लिए गए, लेकिन इलाज अच्छे से नहीं किया गया। मजबूर होकर मैं अपनी मां को एंबुलेंस में बिठाकर करीब 13 घंटे तक शहर में इधर से उधर घूमती रही, लेकिन कहीं भी उनकी मां को भर्ती नहीं किया गया।

उन्होंने कलेक्टर से गुहार लगाई, तब जाकर जेपी अस्पताल में मां को भर्ती किया गया, लेकिन भर्ती करने के अलावा उनका किसी तरह का इलाज नहीं किया गया। मैं दिन भर अस्पताल के बाहर रहती थी। जरूरत पड़ने पर आईसीयू में जाकर मां की मदद करती थी। खाना-पीना भी उनकी तरफ से ही दिया जाता था। प्रियंका ने आरोप लगाया कि गुरुवार रात मां की मौत हो गई उसके बाद डॉक्टरों ने कहा कि अब तुम शव को ले जाओ। उन्होंने ना तो मां को पीपीई किट पहनाई और ना ही वार्डबॉय तक दिया। रात को वह अपने चाचा के साथ मां को आईसीयू बेड पर लेकर स्ट्रेचर तक लाए।
अस्पताल प्रबंधन का जवाब नहीं आया

इस संबंध में जेपी के सिविल सर्जन आरके तिवारी से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने न तो फोन रिसीव किया और नह एमएमएस का जवाब दिया।

भोपाल में आज 297 कोरोना केस

शुक्रवार को राजधानी में 297 कोरोना के नए मरीज मिले। इसके बाद भोपाल में कोरोना केस की संख्या 17486 केस हो गए हैं। अब तक 389 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। चार इमली से 2, इब्राहिमगंज से एक, जहांगीराबाद में 1, बैरागढ़ थाने से 1, ईएमई सेंटर से 8, 25वीं बटालियन से 7 मरीज संक्रमित मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published.