जियो अब कर्ज मुक्त, गूगल के साथ करार और साथ ही कई बड़े ऐलान किए मुकेश अंबानी ने

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) की 43वीं एजीएम को संबोधित करते हुए चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि कोरोना इतिहास के बड़े संकट के रूप में उभरा लेकिन संकट के समय ही अवसर सामने आते हैं। रिलायंस बीते दिनों अपन लक्ष्य के मुताबिक कर्ज मुक्त बनी। गूगल के साथ स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप का ऐलान करते हूए अंबानी ने कहा कि गूगल नई पार्टनर बनी गूगल 33737 करोड़ रुपए निवेश कर 7.7 प्रतिशत की हिस्सेदारी रिलायंस में हासिल करेगी। इस अवसर पर उन्होंने फेसबुक सहित सभी नए पार्टनर्स का स्वागत किया।

मुकेश अंबानी ने कहा कि कंपनी का पूंजी जुटाने का लक्ष्य पूरा हुआ। रिलायंस अब भारत की डिजिटल लाइफलाइन बन गया है। डिजिटल कनेक्टिविटी के लिए जरूरी पांच बातों पर रिलायंस काम कर रहा है, जिसमें मोबाइल ब्रॉडबैंड, एंटरप्राइज ब्रॉडबैंड, छोटे उद्यमों के लिए कनेक्टिविटी प्रमुख हैं। जियो इंजीनियरों ने देश में ही इसके लिए बुनियादी ढांचा तैयार किया है। जियो ने 5जी के लिए पूरे समाधान तैयार कर लिए हैं जो विश्वस्तरीय हैं। 5जी स्पैक्ट्रम मिलते ही इन सॉल्यूशंस को अगले साल तक पेश किया जाएगा। देश को अबएक ऐसे डिजिटल प्लेटफॉर्म की जरूरत है जो देश को एक पूर्ण डिजिटल सोसायटी दे सके।

जियो टीवी में टू-वे कम्युनिकेशन को दिया गया महत्व:

नए इंडिया को लिए नए सॉल्यूशंस की जानकारी आकाश अंबानी ने दी। जियो टीवी प्लस के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने इसमें ग्राहकों के लिए दिए जाने वाले नए फीचर्स के बारे में बताया। जियो फाइबर के जरिए टीवी चैनल्स को इंटरेक्टिव बनाया गया है। जियो टीवी में टू-वे कम्युनिकेशन को अहमियत दी गई है। जियो ग्लास नई सेवा है जो आपको नया अनुभव देती है।
इमर्सिव स्पेस टीचर्स और स्टुडेंट्स के लिए फायदेमंद है। यह इमर्सिव एक्सपीरियंस अनुभव अद्भुत होगा। इसके जरिए जियोग्राफी से लेकर सभी विषयों को बहुत अच्छी तरह समझा जा सकेगा। ईशा अंबानी ने जियो मीट का डेमो देते हुए बताया कि यह शिक्षा से संबंधित सभी समस्याओं को दूर करेगा। ऑनलाइन क्लास के जरिये स्कूलों में मौजूद 30 फीसदी से ज्यादा की कमी को दूर करने में मदद मिलेगी।
JioMeet बेहद उपयोगी:

जियो मीट के जरिये भविष्य के क्लासरूम के साथ ही, हेल्थकेयर सिस्टम के लिए इसकी उपयोगिता की भी ईशा अंबानी ने जानकारी दी। हाईक्वालिटी वीडियो कॉल्स के जरिये Covid-19 और नॉन-कोविड पेशेंट्स की हेल्थकेयर में मदद मिलेगी। इसके जरिए ऑललाइन कंसल्टेशन के साथ ही हमें हेल्थकेयर रिकॉर्ड रखने में मदद मिलेगी। 5जी कनेक्टेड ड्रोन भारतीयों के लिए खेती सहित, बडे मैन्यूफेक्चरिंग, हेल्थकेयर सहित डिजिटल लाइफस्टाइल को बेहतरीन बनाने में मदद करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *