छोटा राजन की मुश्किलें बढ़ी:26 करोड़ की वसूली के मामले में छोटा राजन और उसके 3 गुर्गों को 2 साल की सजा मिली

मुंबई सेशन कोर्ट ने सोमवार को गैंगस्टर छोटा राजन और तीन अन्य को जबरन वसूली के मामले में दो साल कैद की सजा सुनाई है। राजन पर साल 2015 में पनवेल के बिल्डर नंदू वाजेकर को धमका कर 26 करोड़ की जबरन उगाही करने का आरोप था। पुलिस के पास बिल्डर के ऑफिस के सीसीटीवी फुटेज हैं जिससे साबित हुआ कि आरोपी बिल्डर के ऑफिस गए थे, साथ ही पुलिस को इनके कॉल रिकॉर्डिंग भी मिले हैं जिसमें छोटा राजन बिल्डर को धमकी दे रहा है।

छोटा राजन को भारत लाने के बाद उस पर लगे सारे मामले CBI को ट्रांसफर हो गए थे। उसी में से यह एक मामला भी है। यह मामला पनवेल में रजिस्टर किया गया था। फिलहाल, छोटा राजन तिहाड़ जेल में है।

पुणे में एक जमीन खरीद मामले में की थी वसूली
2015 में नंदू वाजेकर ने पुणे में एक जमीन खरीदी थी जिसके एवज में एजेंट परमानंद ठक्कर को 2 करोड़ रुपए कमीशन के रूप में देना तय हुआ था। ठक्कर को और पैसे चाहिए थे, लेकिन वाजेकर ने रुपए देने से इनकार कर दिया। ठक्कर ने छोटा राजन ने संपर्क किया था और राजन ने अपने गुर्गों की सहायता से वाजेकर को धमका कर 26 करोड़ वसूले थे। इसी मामले में ठक्कर मुख्य आरोपी है और फिलहाल फरार चल रहा है।

2 करोड़ की जगह वसूले 26 करोड़
छोटा राजन ने अपने कुछ लोगों को वाजेकर के ऑफिस में भेजा और पिस्तौल दिखाकर धमकी दी थी। आरोप है कि वाजेकर से 2 करोड़ के जगह 26 करोड़ लिए थे और वाजेकर को जान से मारने की धमकी भी दी।

मुंबई में तीसरे मामले में हुई सजा
बिल्डर से फिरौती के लिए खुद छोटा राजन ने दो बार फोन किया था। बता दें कि मुंबई में यह तीसरा केस है जिसमें छोटा राजन को सजा हुई हैं। इससे पहले मुंबई में पत्रकार जेडे की हत्या के मामले में राजन दोषी करार दिया जा चुका है। इसके अलावा दिल्ली में जाली पासपोर्ट मामले में भी छोटा राजन को सजा हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

AllEscort