घर से निकलने का कारण बताना जरूरी:भोपाल में 10 दिन का टोटल लॉकडाउन; थानों के 150 और ट्रैफिक पुलिस के 22 चेकिंग पाइंट रहेंगे, एक साथ 2500 पुलिसकर्मी सड़कों पर होंगे

भोपाल में शुक्रवार रात यानी आज रात 8 बजे से 10 दिन का टोटल लॉकडाउन शुरू हो जाएगा। यह 4 अगस्त की सुबह 5 बजे तक रहेगा। ऐसे में कलेक्टर के आदेश पर धारा 144 भी लागू हो जाएगी। इसका कड़ाई से पालन कराने के लिए शहर में थाना पुलिस 150 और ट्रैफिक पुलिस 22 चेकिंग पाइंट लगाएगी। करीब ढाई हजार पुलिसकर्मी शहर भर में लॉकडाउन का पालन कराने के लिए एक समय में होंगे। ऐसे में कानून का तोड़ने पर पुलिस को तत्काल कार्रवाई करने के लिए फ्री हैंड मिल गए हैं। अब घर से निकलने का कारण बताना जरूरी रहेगा।
मोबाइल वैन अनाउंसमेंट करेंगी
एएसपी हेडक्वार्टर धर्मवीर सिंह ने बताया कि लोग यह बिल्कुल न समझे की लॉकडाउन का मतलब सिर्फ काम से छुट्‌टी है। लोगों को सुविधा दी जाएगी, लेकिन वह धारा 144 के तहत रहेगी। सिर्फ जरूरत पड़ने पर ही लोग घर से निकल सकते हैं। ऐसे में घर से कुछ दूर तक ही जाने की छूट होगी। इमरजेंसी में पुलिस और प्रशासन को फोन करने पर मदद मिलेगी। लोग अपना पहचान पत्र रखकर ही चलें। कॉलोनियों में लोगों को जानकारी देने के लिए मोबाइल वैन चलाई जाएंगी। इनसे लगातार लोगों को घर रहने और नियमों का पालन के साथ अन्य सूचनाएं दी जाती रहेंगी।
अपना पहचान पत्र लेकर चलें
घर से निकलते समय अपना पहचान पत्र लेकर जरूर चलें। पुलिस के रोकने पर तत्काल वहीं रुक जाएं और उनके निर्देशों का पालन करें। उन्हें अपना परिचय दें और घर से निकलने का कारण बताएं। जरूरी होने पर ही घर से निकलें। सरकारी कर्मचारियों को भी पास होने पर ही घर से निकलने की अनुमति है। इसके अलावा सभी जरूरी सेवाओं से जुड़े लोग जैसे दूध, दवाई, सब्जी, फल और टेलीकॉम समेत सीमित सेवाओं के कर्मचारियों को भी पास जरूरी है।
संभागायुक्त कवींद्र कियावत के निर्देश
लॉकडाउन का प्रभावी रूप से पालन कराने को लेकर शुक्रवार को अधिकारियों की बैठक हुई। संभागायुक्त कवींद्र कियावत ने निर्देश देते हुए कहा कि क्षेत्र में अधिक से अधिक सक्रिय और उपस्थित रहकर सभी अधिकारी लॉकडाउन को प्रभावी बनाए। जहां भी लोग जमा दिखे, उन्हें रोके-टोके और वापस घर भेंजे। बैठक में संभागीय अधिकारियों को निरंतर क्षेत्र में रहकर मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी सौंपी गई।

इन्हें यह जिम्मेदारी

नगर निगम
भोपाल दुग्ध संघ और नगर निगम के वाहनों से कोरोना से बचाव का संदेश दिया जाएंगे। नगर निगम जरूरतमंदों को भोजन और संक्रमित क्षेत्र में सैनिटाइजेशन, आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की जिम्मेदारी देखेगा।
लोक निर्माण विभाग और वन विभाग
संक्रमित क्षेत्र की बैरिकेडिंग करेगा। वन विभाग भी लॉकडाउन के दौरान अपनी चेक पोस्ट पर निरंतर चैकिंग करेगा और आइसोलेटेड क्षेत्रों में भ्रमण कर लोगों की मौजूदगी पर नियंत्रण करेगा।
महिला बाल विकास और स्वास्थ्य विभाग
घर-घर जाकर सर्वे किया जाएगा। किसी भी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण मिलने पर तुरंत टेस्ट करवाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.