घरेलू क्रिकेट का नया बादशाह मध्य प्रदेश

पहली बार रणजी का खिताब जीता, फाइनल में मुंबई को 6 विकेट से हराया

भारत के सबसे बड़े डोमेस्टिक क्रिकेट टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी को नया चैंपियन मिल गया है। बेंगलुरु में खेले गए फाइनल मुकाबले में मध्य प्रदेश ने 41 बार की चैंपियन मुंबई को छह विकेट से हराकर पहली बार खिताब जीत लिया है।

पिछले कुछ सालों में देश में एक के बाद एक नई शक्तिशाली टीमें उभर कर सामने आ रही हैं। MP की खिताबी जीत भी इस फैक्ट की तस्दीक करती है। 2014-15 से अब तक 8 सीजन में 6 अलग-अलग टीमों ने खिताब जीते हैं।

मैच के आखिरी दिन मुंबई की दूसरी पारी 269 रन के स्कोर पर सिमट गई। इस तरह MP को जीत के लिए 108 रन का टारगेट मिला, जिसे उसने चार विकेट खोकर हासिल कर लिया। पहली पारी में मुंबई ने 374 रन बनाए थे। जिसके जवाब में मध्यप्रदेश ने 536 रन बनाते हुए 162 रन की बढ़त हासिल की थी।

2 करोड़ के इनाम की घोषणा की MPCA
इस जीत पर MPCA टीम को 2 करोड़ रुपए का इनाम देगा। MPCA के सचिव ने बताया कि विजेता टीम को दो करोड़ रुपए दिए जाएंगे।

यह सब करना आसान नहीं था
‘पूरी तरह से उत्साहित हूं। हम बेहद भावुक हैं। कप्तान के रूप में यह मेरा पहला साल था। मैंने जो कुछ सीखा है वह चंद्रकांत सर से है। मैं इसे जारी रखना चाहता हूं। यह बहुत ही शानदार है। अच्छा महसूस हो रहा है। यह सब करना आसान नहीं था।’
– आदित्य श्रीवास्तव, कप्तान, मध्यप्रदेश टीम

MP ने अच्छा खेला
‘लड़कों ने जिस तरह से खेला है, वह अविश्वसनीय था। टीम में बहुत सारे नए लोग थे। MP ने अच्छा खेला। मैं अधिक समय तक बल्लेबाजी कर सकता था। इस साल नहीं, लेकिन, निश्चित रूप से अगले साल हम जीतेंगे। सरफराज, मुलानी, पारकर, अरमान जाफर ने अच्छा खेला। वे टीम का भविष्य हैं।’
पृथ्वी शॉ, कप्तान, मुंबई टीम

एक नजर में Victory मोमेंट
– 
सबसे पहले दोनों बल्लेबाजों ने एक दूसरे को गले लगाकर जीत का जश्न मनाया।
– दूसरी ओर ड्रेसिंग रूम में बैठे कोच चंद्रकांत पंडित भावुक हो गए।
पहली पारी में बढ़त बनाई फिर जीत भी हासिल की
MP ने मुंबई की पहली पारी के 374 रन के स्कोर के जवाब में 536 रन बनाकर अपना एक हाथ ट्रॉफी पर पहले ही रख दिया था। नियमों के मुताबिक अगर फाइनल ड्रॉ होता है तो पहली पारी में बढ़त हासिल करने वाली टीम विजेता बनती है। हालांकि, MP ने इतने से संतोष नहीं किया और आखिरी दिन छह विकेट से जीत हासिल कर खुद को इस ट्रॉफी का सच्चा हकदार साबित किया।
तीन बल्लेबाजों के शतक, गेंदबाजों ने भी किया कमाल
फाइनल मे MP की ओर से तीन बल्लेबाजों यश दुबे (133 रन), शुभम शर्मा (116 रन) और रजत पाटीदार (122 रन) ने शतक जमाए। MP के गेंदबाजों ने अपना योगदान बखूबी दिया। गौरव यादव ने मैच में 6 विकेट लिए। कुमार कार्तिकेय के साथ पांच सफलता लगी। बाकी गेंदबाजों ने भी उनका भरपूर सहयोग किया।

MP के बड़े स्कोर में 3 शतकवीरों का रहा योगदान
मुंबई की पहली पारी के 374 रन के जवाब में मध्यप्रदेश ने 536 रन का बड़ा स्कोर खड़ा किया। यश दुबे और शुभम शर्मा और रजत पाटीदार ने शतकीय पारियां खेलीं। दूसरे विकेट के लिए शुभम शर्मा और यश दुबे ने 222 रन की साझेदारी कर मध्यप्रदेश को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया शुभम शर्मा 116 रन बनाकर आउट हुए। यश दुबे ने 133 और रजत पाटीदार ने 122 रन की पारी खेली।

मुंबई के लिए तुषार देशपांडे ने तीन विकेट और सम्स मुलानी ने पांच विकेट लिए थे। जबकि मोहित अवस्थी को दो विकेट मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published.