खत की सियासत:सिंधिया की 6 माह पहले वित्त आयोग के अध्यक्ष को लिखी चिट्‌ठी,अब सोशल मीडिया में वायरल

केंद्रीय बजट आने से ठीक पहले बीजेपी के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की 15वें वित्त आयोग को लिखी एक चिट्‌ठी सोशल मीडिया में वायरल हो रही है। सिंधिया ने यह चिट्‌ठी 8 अगस्त 2020 को लिखी थी। जिसमें मध्य प्रदेश में चल रही विभिन्न परियोजनाओं के लिए फंड की मांग की गई थी। अब यह चिट्‌ठी सार्वजनिक होने से इसके सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। क्या उन्होंने इसके जरिए उन्होंने सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश की है? इसकी वजह यह भी है कि 15 जनवरी को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात कर प्रदेश के निर्माणाधीन परियाजनाओं को 31 मार्च तक पूरा करने के लिए राशि उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था। कोरोना महामारी से जूझती अर्थव्यवस्था के बीच मोदी सरकार के बजट पर सभी की निगाहें लगी हुई हैं। बजट सत्र 29 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ शुरू हो गया है। सरकार 1 फरवरी को बजट संसद में पेश करेगी। बजट से हर राज्य और लोगों को कुछ न कुछ उम्मीदें होती हैं। बजट से पहले सिंधिया की 6 माह पहले वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह को सार्वजनिक हुई चिट्‌ठी में केंद्र सरकार से बड़ी मांगें की गई हैं।
मांग पूरी हुई तो ग्वालियर-चंबल में विकास के नए द्वार खुलेंगे
सिंधिया ने इसको लेकर सोशल मीडिया पर लिखा – 15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह को पत्र लिख कर विभिन्न विकास कार्यों के लिए इस वर्ष बजट में फंड आवंटित करने का अनुरोध किया था। जिसमें चंबल नदी से ग्वालियर और मुरैना में पानी लाने के लिए प्रोजेक्ट,चंदेरी के बुनकरों का विकास, ग्वालियर-शिवपुरी और चंदेरी क्षेत्र के पर्यटन में विकास और बाबा महाकालेश्वर मंदिर का अनुरक्षण है। मुझे आशा है कि 1 फरवरी के बजट में, ग्वालियर चंबल संभाग, उज्जैन, शिवपुरी, मुरैना और ओरछा के लिए इनकी स्वीकृति की सकारात्मक खबर आएगी और भविष्य में इन क्षेत्रों के विकास के नए द्वार खुलेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.