कोरोना संक्रमितों के लिए प्यार और आत्मीयता का संदेश लिए 46 व्यक्ति कोरोना

भोपाल | कोरोना का संक्रमण किसी को भी हो सकता है। कोरोना संक्रमितों को आपके साथ और प्यार की आवश्यकता है। आपसी सहयोग और अपनेपन से हम इस पर विजय पा सकते है। कोरोना संक्रमण की जागरूकता में आत्मीयता का यह संदेश देते हुए आज 46 व्यक्ति कोरोना संक्रमण से स्वस्थ होकर अपने घर रवाना हुए। चिरायु अस्पताल से 32 और शासकीय होम्योपैथिक अस्पताल से 14 व्यक्ति डिस्चार्ज हुए। इन्हें मिलाकर भोपाल में अब तक 1401 व्यक्ति कोरोना संक्रमण से स्वस्थ हो चुके हैं । इन सभी ने कोरोना संक्रमण को कम करने और सफल इलाज का हर संभव प्रयास करते शासन- प्रशासन, अस्पताल प्रबंधन, चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टॉफ, सफाईकर्मियों आदि का हृदय से धन्यवाद दिया।
अपने नन्हे बच्चे को साथ लेके आज डिस्चार्ज हुई बुधवारा निवासी 37 वर्षीय जेन खान ने अपने सफल ईलाज के लिए शासन-प्रशासन और चिरायु अस्पताल प्रबंधन का तहे दिल से हार्दिक आभार व्यक्त किया । उन्होंने बताया कि डॉक्टर विकास और डॉक्टर विवेक ने उनका समर्पण भाव से ईलाज किया है।
शासकीय होम्योपैथिक हॉस्पिटल से स्वस्थ होकर घर रवाना होते हुए इंद्रा नगर निवासी 25 वर्षीय श्री रितेश अहिरवार ने कोविड केयर सेंटर में शासन-प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराई गई सुविधाओं के लिए हार्दिक धन्यवाद दिया। उन्होंने बताया उन्हें लगा ही नहीं की वे किसी अस्पताल में है। नर्स सरिता साहू और नेहा बेवड़े ने हम सभी की समर्पण भाव से सेवा की है। उन्होंने कहा कि हम इसके लिए जिंदगीभर आभारी रहेंगे।
चिरायु अस्पताल के डायरेक्टर श्री अजय गोयनका ने सकुशल अपने घरों को लौटते हुए इन कोरोना सरवाइवर को भविष्य के लिए शुभकामनाए दी। उन्होंने भोपालवासियों से कहा इस संकट के समय मे सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का जिम्मेदारी से पालन करें । शासकीय होम्योपैथी चिकित्सालय की अधीक्षक डॉ सुनीता तोमर ने सभी व्यक्तियों को स्वस्थ होने पर उन्हें शुभकामनाएँ दीं । कोरोना संक्रमित बिना लक्षण वाले व्यक्तियों की देखभाल कर रहे डॉ उमेश मसराम और डॉ अजय जायसवाल ने बताया कि यहां भर्ती व्यक्तियों को पौष्टिक भोजन के साथ-साथ लक्षणों के आधार पर होम्योपैथिक औषधियां भी दी जा रही है। इससे शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत हो रहा है और वे स्वस्थ हो रहे है । जिला प्रशासन द्वारा भोपाल शहर में 56 से अधिक जगहों पर कोरोना संक्रमण की जांच हेतु फीवर क्लीनिक संचालित किए जा रहे है। सभी सीएचसी, सीएचसी, जिला अस्पताल, नागरिक औषधालय, संजीवनी क्लीनिक में जांच की सुविधा उपलब्ध है। स्वयं की सुरक्षा के प्रति सचेत रहते हुए हमें खुद आगे आकर अपनी जांच करानी है ताकि हमारे साथ साथ हमारा परिवार और समाज सुरक्षित रह सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.