एम्स, हमीदिया, चिरायु व जेपी में 54 फीसदी बेड कोरोना मरीजों से भरे, यही रफ्तार रही तो 7 दिन में हो जाएंगे फुल

राजधानी में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बीते 4 दिन में बढ़ गई है। आलम यह है कि कोरोना मरीजों के नि:शुल्क इलाज वाले 4 अस्पतालों में रोजाना औसतन 250-300 नए मरीज भर्ती हो रहे हैं, जबकि 200 मरीज इन अस्पतालों से डिस्चार्ज हो रहे हैं। इसके चलते अब कोविड मरीजों के नि:शुल्क इलाज वाले एम्स, हमीदिया, जेपी और चिरायु अस्पताल में 1720 बेड में से 800 ही खाली बचे हैं। 19 नवंबर को इन संस्थानों में खाली बेड की संख्या 1183 थी। राजधानी में नए कोविड संक्रमित मरीजों के मिलने की रफ्तार यही रही तो अगले एक सप्ताह में शहर के सरकारी कोविड हॉस्पिटल्स के बेड फुल हो जाएंगे।

स्वास्थ्य संचालनालय के अफसरों ने बताया कि एनएचएम की कोविड बेड ऑक्यूपेंसी रिपोर्ट के अनुसार भोपाल में बीते 4 दिन में सबसे ज्यादा मरीज चिरायु अस्पताल में भर्ती हुए हैं। यहां 19 नवंबर को 362 मरीज भर्ती थे। इनमें से 32 मरीज आईसीयू में थे, लेकिन अब यहां भर्ती मरीजों का आंकड़ा 735 हो गया है। 132 बेड का आईसीयू भी पूरी तरह से फुल हो चुका है, जबकि हमीदिया, एम्स और जेपी अस्पताल में 661 बेड खाली हैं, जिनमें 144 आईसीयू बेड हैं।

4 दिन में… 15 मरीज वेंटिलेटर पर हुए शिफ्ट
22 मरीज वेंटिलेटर सपोर्ट पर… एम्स, हमीदिया और चिरायु अस्पताल के आईसीयू में 364 बेड कोविड के गंभीर मरीजों के लिए रिजर्व हैं। इनमें से 220 बेड पर मरीज भर्ती हैं, जिनमें से 22 को वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया है। इनमें से 15 मरीज पिछले 4 दिन में वेंटिलेटर पर शिफ्ट हुए हैं।

जेपी में 3 दिन से एक भी मरीज नहीं हुआ भर्ती… आक्यूपेंसी रिपोर्ट के अनुसार जेपी अस्पताल की कोविड यूनिट में 19 नवंबर से अब तक एक भी नया कोविड मरीज भर्ती नहीं हुआ है। अस्पताल के 16 बेड के आईसीयू में 19 नवंबर को 9 मरीज भर्ती थे, जो अब भी भर्ती हैं।

शहर के चारों अस्पतालों में अभी यह है बेड की स्थिति

1720 बेड एम्स, हमीदिया, चिरायु और जेपी अस्पताल में हैं।
922 बेड अभी इन अस्पतालों में कोरोना मरीजों से भरे हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.