उत्तर प्रदेश में जातीय दंगे भड़काने की थी साजिश, हो रही थी फंडिंग

हाथरस केस में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। यूपी पुलिस की जांच में पता चला है कि हाथरस कांड के बहाने प्रदेश में जातीय दंगे भड़काने की साजिश थी। कुछ वेबसाइट्स और सोशल मीडिया कमेंट्स के जरिए पुलिस को यह जानकारी मिली। इसके बाद संदिग्ध वेबसाइट्स बंद कर दी गई हैं। पुलिस की इस पड़ताल के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विपक्ष को विकास अच्छा नहीं लग रहा है और यही कारण है कि वे प्रदेश में साम्प्रदायिक दंगा भड़काने की कोशिश कर रहे हैं। यह पहला मौका है जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस केस में विपक्ष पर निशाना साधा है। यूपी सरकार पहले ही केस की सीबीआई जांच की सिफारिश कर चुकी है। योगी आदित्यनाथ ने एक वीडियो संदेश में कहा, जिसे विकास अच्छा नहीं लग रहा, वे लोग देश में और प्रदेश में भी जातीय दंगा भड़काना चाहते हैं-सांप्रदायिक दंगा भड़काना चाहते हैं। उन्होंने आगे कहा कि इस दंगे की आड़ में विकास रुकेगा और इसकी आड़ में उन्हें अपनी रोटियां सेंकने का अवसर मिलेगा, इसलिए वे नित नए षड्यंत्र करते रहते हैं। इन षड्यंत्रों के प्रति पूरी तरह से आगाह होते हुए भी हमें इस विकास की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना है।
बता दें, हाथरस में युवती से दुष्कर्म के बाद उसकी मौत और रात के अंधेरे में अंतिम संस्कार करने के मामले में अब जमकर राजनीति हो रही है। पहले राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पहुंचे। इसके बाद रविवार को सपा और आरएलडी के नेताओं ने हंगामा किया। भीम आर्मी के चंद्रशेखर भी रविवार को पीड़ित परिवार से मिले और कहा कि परिवारजन डरे हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.