इंदौर में दो और स्टूडेंट संक्रमित

शहर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में उतार-चढ़ाव जारी है। गुरुवार को 3 नए पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। इनमें से दो मल्हारगंज व एक राजेंद्र नगर क्षेत्र का है। मल्हारगंज के दो पॉजिटिव, एरोड्रम क्षेत्र में गरिमा विद्या निकेतन में पढ़ने वाले दो विद्यार्थी हैं। ये भाई बहन हैं। 16 वर्षीय बहन नौवीं में पढ़ती है, जबकि 13 वर्षीय भाई छठी क्लास में है। हालांकि दावा किया गया है कि यह ऑनलाइन क्लास ही ले रहे थे। बताया गया कि इनके दादा पहले संक्रमित पाए गए, इसके बाद जांच कराने पर इन दोनों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई।

इससे पहले दो अलग-अलग स्कूलों में पढ़ने वाले भाई-बहन भी संक्रमित पाए जा चुके हैं। इस तरह स्टूडेंट के संक्रमित होने की संख्या चार हो गई है। सभी की स्थिति सामान्य है। वैसे इन दिनों स्वास्थ्य विभाग का मुख्य जोर 1 नवम्बर के बाद विदेशों से इंदौर आए 272 लोगों पर हैं। इनमें से 148 को पता लगा लिया गया है और इनमें से 100 से ज्यादा के सैंपल टेस्ट किए गए जो नेगेटिव पाए गए। अब 124 लोगों के लिए 38 मेडिकल टीमें लगी हैं। एक टीम में एक डॉक्टर, एक स्टाफ नर्स व एक लैब टेक्निशियन हैं। यानी 114 लोगों की ये टीमें हैं। 124 लोगों में से जो इंदौर से बाहर गए हैं, उनकी जानकारी भी जुटाई जा रही है।

कई लोगों के बारे में यह जानकारी मिली है कि वे कुछेक दिन इंदौर में रहने के बाद कोई अन्य शहर होते हुए फिर से विदेश चले गए जबकि कुछ दूसरे राज्यों में हैं। ऐसे मामलों में संबंधित जिलों को उनके बारे में सूचना दी गई है, वे टेस्ट करा लें। इधर, दूसरे डोज को लेकर लगातार कसावट की जा रही है। लोगों से अपील की गई है कि जिनकी ड्यू डेट निकल गई है। वे दूसरा डोज जरूर लगवाएं। इसके लिए नगर नगर द्वारा संस्थानों पर जाकर चेकिंग की जा रही है। अगर कोई कर्मचारी बिना दूसरा डोज का मिला, तो संस्थानों को सील किया जा रहा है। अभी तक 30 से ज्यादा संस्थानों को सील किया जा चुका है। वैसे, अब तक दूसरे डोज का 85 फीसदी वैक्सीनेशन हो चुका है। शुक्रवार को वैक्सीनेशन के लिए 317 सेंटर बनाए गए हैं।

197 में से 56 लोगाें की रिपोर्ट नेगेटिव, प्रिंसिपल भी निगेटिव
इंदौर के माता जीजाबाई शासकीय कन्या स्नात्तकोतर कॉलेज में एक महिला प्रोफेसर के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद कॉलेज प्रबंधन ने कॉलेज परिसर में ही स्टूडेंट्स, प्रोफेसर और अन्य स्टाफ टेस्ट करवाया था। कॉलेज प्रिंसिपल के मुताबिक कॉलेज स्टूडेंट्स, प्रोफेसर व स्टाफ को मिलाकर बुधवार को 63, गुरुवार को 95 और शुक्रवार को 36 लोगों की जांच करवाई गई है। 194 लोगों का आरटीपीसीआर टेस्ट करवाया गया, जबकि 3 लोगों ने बाहर जांच कराई है। अब तक 56 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। सभी को कहा गया है कि रिपोर्ट आने पर कॉलेज को सूचित करें। प्रिंसिपल ने बताया कि उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है।

अब संक्रमित हर बच्चे के स्कूल, कोचिंग, क्लास सहित जानकारी जरूरी

दो दिन पहले तेजाजी नगर में एक परिवार के दो बच्चे भी पॉजिटिव मिले थे। इनमें से एक बालिका क्वींस कॉलेज में छठी क्लास में हैं, जो एक दिन पहले तक स्कूल गई थी। इसकी जानकारी न तो स्वास्थ्य विभाग को थी और न ही क्वींस कॉलेज के प्रबंधन को। गुरुवार को जानकारी मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग व स्कूल प्रबंधन सक्रिय हुआ। हालांकि अभी स्वास्थ्य विभाग की टीम अभी क्वींस कॉलेज में सैंपल लेने नहीं पहुंची हैं। इस बीच सभी RRT (रैपिड रिस्पांस टीम) को कहा गया है अब जो भी बच्चे पॉजिटिव पाए जाते हैं तो वह किस क्लास और कौन से स्कूल व कोचिंग सेंटर में पढ़ता है, इसकी पूरी जानकारी जुटाएं। यह भी जानकारी लें कि वह किस तारीख तक स्कूल गया था ताकि वहां के बच्चों के भी सैंपल लेकर कांटेक्ट हिस्ट्री जुटाई जा सके।

10 दिनों में 51 संक्रमित

वैसे 23 नवम्बर से 2 दिसंबर तक इंदौर में 51 पॉजिटिव पाए गए हैं, जिनमें दो बच्चे हैं। अभी 40 एक्टिव केस हैं। अधिकांश सरकारी MRTB हॉस्पिटल में एडमिट हैं। ये सभी एसिम्टोमैटिक हैं। और हालत अच्छी है। गाइड लाइन के तहत स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब हर संक्रमित को होम आइसोलेशन के बजाय एडमिट ही कराया जा रहा है ताकि संक्रमण पर नियंत्रण हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

AllEscort