इंडियन ऑयल ने दिलाया भरोसा- देश में कहीं नहीं LPG की किल्लत

रविवार 29 मार्च 2020 Coronavirus News Today 29 March 2020 Live: देश में कोरोना वायरस के चलते हालात बिगड़ते जा रहे हैं। शनिवार को चौबीस घंटे के दौरान 155 नए मामले सामने आए हैं और संक्रमितों का आंकड़ा 1000 पार कर गया है। शनिवार को दिल्ली, गुजरात, केरल और तेलंगाना में एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई है। दिल्ली में जिस व्यक्ति की मौत हुई है वह यमन का रहने वाला था। इस तरह देश में अब तक इस वायरस के चलते मरने वालों की संख्या 25 हो गई है। वहीं, मजदूरों का पलायन भी समस्या बढ़ा रहा है। पढ़िए कोरोना वायरस से जुड़ी ताजा खबरें –

रसोई गैस की किल्लत नहीं: कोरोना के खौफ के बीच इंडियन ऑयल कार्पोरेशन ने भरोसा दिलाया है कि देश में कहीं भी रसोई गैस की किल्लत नहीं है और घरेलू रसोई गैस सिलेंडर्स की सप्लाय पहले की तरह जारी है।

बाहर से आ रहे किसी को नहीं घुसने देंगे बिहार में : Coronavirus के संक्रमण को रोकने के लिए शुरू हुए लॉकडाउन के बाद पलायन से विषम परिस्थिति पैदा हो गई हैं। ऐसे में बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा है कि किसी भी यात्री को लेकर आ रहे वाहन को बिहार की सीमा पर रोक दिया जाएगा। नीतीश कुमार ने साफ कह दिया है कि ऐसे तो लॉकडाउन ही फेल हो जाएगा। वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए हैं कि पिछले तीन दिन में प्रदेश में आए करीब एक लाख लोगों को अनिवार्य रूप से क्वारंटाइन में रखा जाएगा।

इटली में मरने वालों का आंकड़ा 10 हजार के पार: दुनियाभर में कोरोना वायरस से हालात रोज भयावह होते जा रहे हैं। इस घातक वायरस से यूरोप के देश इटली और स्पेन सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। शनिवार को इटली में 889 लोगों की मौत हो गई और मरने वालों का आंकड़ा 10,023 हो गई। वहीं स्पेन में एक दिन में 832 लोगों ने दम तोड़ा। दुनियाभर में इस महामारी से अब तक तीस हजार लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि साढ़े छह लाख के करीब लोग संक्रमित हुए हैं। सबसे ज्यादा अमेरिका में 1,18,592 लोग संक्रमित हुए हैं।

लॉकडाउन के बीच महापलायन: Coronavirus के बढ़ते प्रकोप के बीच देश में 21 दिन का लॉकडाउन है। केंद्र और राज्य सरकारें गरीब और मजदूरों के लिए राहत के तमाम ऐलान कर चुकी हैं। इसके बावजूद दिल्ली-एनसीआर से महापलायन जारी है। शनिवार को आनंद विहार, कौशांबी बस अड्डा, नेशनल हाईवे नाइन (एनएच 24) का मंजर भयावह था। जिधर नजर जाती, बस जनसैलाब था। मजदूर, रिक्शा चालक, फैक्ट्री कर्मचारी हों या कंस्ट्रक्शन साइट पर काम करने वाले, इन्हें न तो कोरोना का खौफ है और न भूख-प्यास, गर्मी-बारिश की चिंता। छोटे-छोटे बच्चों को गोद में उठाए, सामान सिर पर लादे पुरुष-महिला, बच्चे, बुजुर्ग, बीमार सैकड़ों किलोमीटर की दूरी से बेपरवाह सड़कों पर चले जा रहे हैं। इन्हें किसी सूरत में घर जाना है और इसलिए बस में कैसे भी टिक जाने की बेताबी है।

अर्धसैनिक बलों तक पहुंचा संक्रमण: अर्धसैनिक बलों में भी कोरोना का मामला मिला है। सीमा सुरक्षा बल के एक जवान और सीआइएसएफ के एक जवान को संक्रमित पाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *