इंग्लैंड के गेंदबाज ब्रेसनन का दावा- तेंदुलकर को 100वां शतक लगाने से पहले आउट करने पर जान से मारने की धमकी मिली थी

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज टिम ब्रेसनन ने सचिन तेंदुलकर को आउट करने को लेकर खुलासा किया है। ब्रेसनन के मुताबिक, 2011 के ओवल टेस्ट में सचिन तेंदुलकर को 100वां टेस्ट लगाने से पहले आउट करने पर उन्हें और ऑस्ट्रेलियाई अंपायर रॉड टकर को जान से मारने की धमकी मिली थी।

ब्रेसनन ने बताया कि ओवल टेस्ट की चौथी पारी में सचिन 91 रन पर खेल रहे थे। तब उनकी गेंद पर अंपायर टकर ने सचिन को एलबीडब्ल्यू करार दिया था।

सचिन आउट नहीं होते तो शतक पूरा कर लेते: ब्रेसनन

इंग्लिश गेंदबाज ने इंग्लिश काउंटी क्लब यॉर्कशायर के पॉडकास्ट में कहा,‘‘वह गेंद लेग स्टम्प से बाहर जा रही थी और ऑस्ट्रेलियाई अंपायर टकर ने सचिन को आउट दे दिया। वे 91 रन पर खेल रहे थे और निश्चित तौर पर शतक भी पूरा कर लेते। हम भारत के खिलाफ वह सीरीज जीते और दुनिया की नंबर वन टीम बने।’’

‘मुझे ट्विटर पर जान से मरने की धमकी मिली’

उन्होंने कहा, ‘‘इस घटना के बाद से ही हम दोनों (ब्रेसनन और टकर) को जान से मारने की धमकी मिलने लगी। मुझे ट्विटर पर धमकी मिली और अंपायर टकर को उनके घर के पते पर धमकी भरी चिट्ठियां मिलीं। जान से मारने की धमकी के साथ लिखा था कि तुमने उसे (सचिन को) कैसे आउट दे दिया? गेंद लेग साइड से बाहर जा रही थी।’’

अंपायर टकर को निजी सुरक्षाकर्मी साथ रखने पड़े

ब्रेसनन के मुताबिक, इन धमकियों से घबराकर टकर को अपनी सुरक्षा बढ़ानी पड़ी। उन्होंने कहा, ‘‘कुछ महीनों बाद वह मुझसे मिले और कहने लगे कि दोस्त, मुझे सुरक्षाकर्मी रखने पड़े। ऑस्ट्रेलिया में उनके घर के आसपास पुलिस तैनात रहती थी।’’

सचिन ने 2012 के एशिया कप में 100वां शतक लगाया

तेंदुलकर ने 2011 वर्ल्ड कप के लीग मैच में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 99वां अंतरराष्ट्रीय शतक पूरा किया था। हालांकि, 100वां शतक लगाने के लिए उन्हें एक साल और इंतजार करना पड़ा। 2012 के एशिया कप में उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ शतकीय पारी खेलकर यह शतकों का शतक पूरा किया। तब उन्होंने 114 रन बनाए थे।

सचिन 100 अंतरराष्ट्रीय शतक लगाने वाले इकलौते बल्लेबाज हैं। उन्होंने टेस्ट में 15921 और वनडे में 18426 रन बनाए। टेस्ट में उनके 51 तो वनडे में 49 शतक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.