आफताब को छोड़ना चाहती थी श्रद्धा

आफताब को लगा किसी और के साथ चली जाएगी, इसीलिए हत्या कर दी

श्रद्धा वालकर अपने लिव-इन पार्टनर आफताब अमीन पूनावाला की मारपीट से परेशान थी। उसे छोड़ना चाहती थी। दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने मंगलवार को भास्कर को बताया कि 3-4 मई को आफताब और श्रद्धा ने अलग रहने का फैसला किया था। यह बात आफताब को रास नहीं आई। उसे लगता था कि श्रद्धा किसी और के साथ इन्वॉल्व हो जाएगी। इसके बाद आफताब ने श्रद्धा का मर्डर कर उसके टुकड़े कर दिए।

मंगलवार को आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट पूरा हो गया। FSL के सहायक निदेशक संजीव गुप्ता ने बताया कि आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट पिछले हफ्ते से चल रहा था आज वो खत्म हो गया है। जल्द ही हम अपनी रिपोर्ट पुलिस को सौंप देंगे। नार्को टेस्ट के लिए जब भी पुलिस हमसे कहेगी, इसे कर लिया जाएगा।

श्रद्धा मर्डर केस में आज के अपडेट्स

  • स्पेशल कमिश्नर ऑफ पुलिस सागरप्रीत हुड्‌डा ने दिल्ली कोर्ट से 1 दिसंबर को आफताब का नार्को टेस्ट करवाने की अपील की थी, जिसे मंजूरी मिल गई है। आफताब का नार्को टेस्ट बाबा साहब अंबेडकर हॉस्पिटल में होगा।
  • सोमवार को आफताब पर हमले के बाद लैब के बाहर BSF तैनात की गई है। हमले के 2 आरोपियों को 14 दिन की ज्यूडिशियल कस्टडी पर जेल भेज दिया गया है।
  • आफताब की जेल वैन पर हुए हमले में शामिल चार ओर आरोपियों का नाम आया सामने। धन सिंह उर्फ लीलू गुर्जर, आकाश, सोम्मे और पिंटू की तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है।
  • दिल्ली पुलिस ने श्रद्धा को जॉब दिलाने वाले जिमेश नांबियार का बयान दर्ज किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, श्रद्धा के पिता ने भी अपना बयान दर्ज करवाया है।
  • पूछताछ के दौरान बेहद कॉन्फिडेंट है आफताब
    पुलिस सूत्रों से यह जानकारी भी मिली है कि पूछताछ के दौरान आफताब बहुत ज्यादा कॉन्फिडेंट है। जब उससे पूछताछ की जाती है, तो वह बहुत तेजी से और रिलेक्स होकर जवाब दे रहा है। इससे लगता है कि वह पहले से सोचे-समझे जवाब देता है।

    पुलिस को शक यह भी है कि जब सितंबर-अक्टूबर में आफताब को मुम्बई पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया था, उस वक़्त भी श्रद्धा के कुछ बॉडी पार्ट्स उसके दिल्ली वाले फ्लैट में मौजूद थे।

    पेटीएम और गूगल पे से आफताब के पेमेंट्स की जानकारी मांगी
    इधर दिल्ली पुलिस ने गूगल पे, पेटीएम से आफताब के पेमेंट डीटेल मांगे हैं। इससे पहले, बंबल डेटिंग ऐप (Bumble dating App), फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत कई प्लेटफॉर्म्स को चिट्ठी लिखकर आफताब के अकाउंट्स की डिटेल्स मांगी थी। कुछ ऐप ने डिटेल्स दी भी हैं। पुलिस को गूगल ब्राउजिंग के कुछ संदिग्ध लिंक मिले हैं, जिन्हें आफताब ने सर्च किया था।

    अब तक 13 हड्डियां मिली, खून के सैंपल जांच के लिए भेजे
    पुलिस ने आफताब की निशानदेही पर अभी तक 13 हड्डियां बरामद की हैं। श्रद्धा का जबड़ा मिलने की जानकारी भी मिली है। गुरुग्राम से भी कुछ बॉडी पार्ट रिकवर होने की बात सामने आई है। इसके अलावा आफताब के घर के बाथरूम, किचन के अलावा बेडरूम से भी खून के धब्बों के सैंपल मिले हैं, जिन्हें जांच के लिए भेजा गया है।

    दिल्ली पुलिस ने जंगल और आफताब के फ्लैट से कुछ हथियार भी बरामद किए हैं। हालांकि इनमें से किस हथियार से श्रद्धा का शव काटा गया, यह CFSL रिपोर्ट आने के बाद पता लगेगा। इस केस में आफताब और श्रद्धा को फ्लैट दिलाने वाले बद्री का अब तक कोई संदिग्ध रोल नहीं मिला है। उसने केवल इन्हें मकान दिखाया था।

आफताब पर हमला, हमलावर बोले- 70 टुकड़े करने आए हैं
आफताब अमीन पूनावाला को ले जा रही पुलिस वैन पर सोमवार को रोहिणी स्थित फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (FSL) के बाहर 4-5 लोगों ने हमले की कोशिश की। इनके हाथों में तलवारें थीं। पुलिस ने हमलावरों को काबू करने के लिए रिवॉल्वर निकाल ली। हालांकि, फायरिंग नहीं की। दो हमलावर को हिरासत में लिया गया है।

एक हमलावर ने बताया कि 15 लोग गुरुग्राम से आए थे और सुबह 11 बजे से ही FSL के बाहर घात लगाकर बैठे थे। ये लोग गाड़ी में कई सारी तलवारें और हथौड़े लेकर आए थे। उसने कहा कि हमारी बहन बेटी को जिसने 35 टुकड़ों में काटा उस आफताब को हम 70 टुकड़ों में काटने आए थे।

हमले के दौरान की अहम तस्वीरें…

जेल पहुंचने पर आफताब का मेडिकल चेकअप हुआ
न्यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से बताया कि बंदियों को जेल से लाने-ले जाने की जिम्मेदारी थर्ड बटालियन के पास है। जिस वक्त आफताब की वैन पर हमला हुआ, उस वक्त वैन में एक सब इंस्पेक्टर समेत 5 पुलिस वाले थे। पुलिस की वैन पूरी तरह सुरक्षित है। जेल पहुंचने पर आफताब का मेडिकल चेकअप हुआ। वह पूरी तरह से ठीक है।

पुलिस को मिला श्रद्धा की हत्या में इस्तेमाल किया गया हथियार
इससे पहले इस हत्याकांड के 17 दिन बाद दिल्ली पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली। पुलिस ने सोमवार को श्रद्धा की हत्या में इस्तेमाल हथियार बरामद कर लिया। न्यूज एजेंसी ANI ने दिल्ली पुलिस सूत्रों के हवाले से बताया- श्रद्धा की वो अंगूठी भी बरामद कर ली गई है, जिसे आफताब ने मर्डर के बाद दूसरी लड़की को गिफ्ट दिया था।

ये लड़की मर्डर के बाद आफताब के फ्लैट पर भी आई थी। उस दौरान श्रद्धा की बॉडी के टुकड़े फ्लैट में ही फ्रिज में मौजूद थे। पुलिस ने कहा था कि डेटिंग ऐप के जरिए आफताब ने दूसरी गर्लफ्रेंड से कॉन्टैक्ट किया था।

अब 3 नए दावे…

1. दोस्तों को ब्रेकअप की कहानी सुनाई: मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि श्रद्धा को मारने के बाद आफताब मुंबई में उसके दोस्तों से मिला था और उन्हें ब्रेकअप की कहानी सुनाई थी।

2. हत्या में दूसरे व्यक्ति ने साथ दिया: श्रद्धा की हत्या करने में आफताब का साथ एक व्यक्ति ने दिया था। दिल्ली पुलिस को शक है कि इसी व्यक्ति ने सबूत मिटाने में भी आफताब की मदद की। फिलहाल, पुलिस इसके बारे में जानकारी जुटा रही है। हालांकि यह पता नहीं चला है कि उसने यह थ्योरी किस आधार पर बनाई।

3. ड्रग पैडलर ने आफताब को ड्रग्स दी: गुजरात पुलिस ने एक ड्रग पैडलर फैजल मोमिन को गिरफ्तार किया है। उसने दावा किया है कि वह आफताब को ड्रग्स सप्लाई करता था। आफताब नशीली दवाओं का इस्तेमाल करता था, या नहीं। इसे भी जांच में शामिल किया जाएगा।

श्रद्धा मर्डर केस में नई जानकारियां 5 पॉइंट्स में…

1. जेल के बाहर 24 घंटे तैनात रहेगा गार्ड
आफताब फिलहाल तिहाड़ में कैद है। जेल सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया कि आफताब जेल की सेल नंबर 4 में अकेला ही रहेगा। सूत्रों ने कहा कि अलग सेल में एक ही कैदी रहेगा और वो जल्द इस सेल से नहीं हटाया जाएगा। आफताब को खाना पुलिस की मौजूदगी में ही दिया जाएगा। उसकी सेल के बाहर 24 घंटे एक गार्ड तैनात रहेगा। यहां 8 CCTV कैमरे लगे हैं। इन कैमरों से आरोपी की 24 घंटे निगरानी होगी।

2. आफताब ने पॉलीग्राफ टेस्ट की पहले से रिहर्सल की
हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक आफताब ने पॉलीग्राफ टेस्‍ट की पहले से रिहर्सल की थी। एक अधिकारी ने कहा कि ऐसा लग रहा है, जैसे आफताब को पहले से पता था कि किस तरह के सवाल पूछे जाएंगे। वह कुछ सवालों का जवाब बड़ी बेबाकी से दे रहा है, लेकिन मर्डर से जुड़े सवालों पर चुप्पी साध लेता है या फिर झूठ बोलने लग जाता है।

3. कोर्ट ने थर्ड डिग्री के बारे में पूछा, आफताब बोला- मैं ठीक हूं
आफताब को अंबेडकर अस्पताल ले जाया गया। यहीं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उसकी कोर्ट में पेशी हुई। कोर्ट ने उससे पुलिस की थर्ड डिग्री के बारे में पूछा तो आफताब ने कहा कि मैं ठीक हूं। उसने कहा कि दिल्ली पुलिस अच्छा बर्ताव कर रही है। मैं भी जांच में सहयोग कर रहा हूं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आफताब ने कोर्ट को बताया कि श्रद्धा उसे हमेशा उकसाती रहती थी। उस दिन भी जो हुआ, वह गुस्से में हुआ।

4. जंगल से मिली हड्डियां श्रद्धा की ही
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक फोरेंसिक जांच में पता चला है कि जंगल से मिली हड्डियां श्रद्धा की ही हैं। उनका DNA श्रद्धा के पिता से मैच हो गया है। अब पुलिस को रिपोर्ट्स का इंतजार है। स्पेशल CP (लॉ एंड ऑर्डर) सागर प्रीत हुड्डा ने कहा कि अभी तक DNA टेस्ट रिपोर्ट (पीड़ित के पार्ट्स की) नहीं मिली है।

5. आफताब का परिवार भी हत्या में शामिल
श्रद्धा के पिता विकास वालकर ने CBI जांच की मांग की है। एक न्यूज चैनल के साथ इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा- आफताब अभी भी पुलिस को गुमराह कर रहा है और इस मामले की CBI जांच होनी चाहिए।

साथ ही उन्होंने कहा कि आफताब का परिवार भी इसमें शामिल है। आफताब के माता-पिता उसकी हरकतों के बारे में जानते थे। वो जानते थे कि आफताब श्रद्धा के साथ मारपीट करता है। उन्हें मुझे इस बात की जानकारी देनी चाहिए थी, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। उन्होंने दावे के साथ कहा कि आफताब का परिवार भी इस हत्या में शामिल है।

18 मई को हुआ था श्रद्धा का मर्डर
दिल्ली पुलिस के मुताबिक 28 साल के आफताब ने 18 मई को 27 साल की श्रद्धा का मर्डर कर दिया था। दोनों लिव-इन में रहते थे। आफताब ने श्रद्धा के शव के 35 टुकड़े किए थे। इन्हें रखने के लिए 300 लीटर का फ्रिज खरीदा था। वह 18 दिन तक रोज रात 2 बजे जंगल में शव के टुकड़े फेंकने जाता था।

श्रद्धा मर्डर केस से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें…

1. आफताब ने कत्ल से पहले दृश्यम देखी थी, पार्ट-2 का इंतजार कर रहा था

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, आफताब ने माना है कि उसने श्रद्धा के कत्ल से पहले बॉलीवुड फिल्म दृश्यम देखी थी, उसे पार्ट-2 का भी इंतजार था। FSL सूत्रों के मुताबिक, दृश्यम देखकर ही वो मर्डर के बाद एक कहानी गढ़ने की फिराक में था। 

2. पीटने के 5 दिन बाद श्रद्धा को अस्पताल लाया आफताब, डॉक्टर बोले- चल भी नहीं पा रही थी

मुंबई के ओजोन अस्पताल के डॉ. शिवप्रसाद शिंदे ने मीडिया को बताया है कि 3 दिसंबर 2020 को श्रद्धा उनके पास इलाज कराने आई थी। उसके शरीर पर जो चोटें थीं, वो फिजिकल वॉयलेंस के चलते ही आती हैं, लेकिन उसने कुछ भी खुलकर नहीं बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *