अनलॉक हुई राजधानी में 10 दिन में बढ़े 490 मरीज

भोपाल. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करना राजधानीवासियों को भारी पढ़ता जा रहा है। 1 से 10 जून तक राजधानी भोपाल में 490 नए संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। 1 जून को मरीजों की संख्या 1641 थी जो 10 जून को 2131 पर पहुंच गई है। भले ही जिला प्रशासन कम्यूनिटी स्प्रेड की आशंका से मना कर रहा है। लेकिन जिस तरह से मरीज मिल रहे वे इस और इशारा कर रहे हैं।

राजधानी में अनलॉक-1 के 10वें दिन 78 नए कोरोना पॉजिटिव मिलने से हड़कंप मच गया, क्योंकि 22 मार्च को पहला मरीज मिलने के बाद से यह एक दिन में नए केस मिलने का सबसे बड़ा आंकड़ा है। नए संक्रमितों में 108 इमरजेंसी कॉल सेंटर के 12 और कर्मचारी शामिल हैं।
भोपाल में इसलिए तेजी से फैला संक्रमण

जनता नहीं कर रही सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन।
मार्केट में बिना मास्क के घूम रहे लोग।
भोपाल में झुग्गी बस्तियां, नाले के ऊपर बने मकान और सघन बस्ती व तंग गलियां हैं, जहां लोग लगातार एक दूसरे के संपर्क में आ रहे हैं।
कुछ वार्डों में सार्वजनिक नल से लोग पानी भर रहे हैं। इस दौरान नियमों की अनदेखी हो रही है।
तीन दिन में मास्क न पहनने और थूकने वाले 975 पर कार्रवाई

पिछले तीन दिनों में भोपाल में 975 लोग बिना मास्क के घूमते और थूकते हुए पकड़े गए। इन लोगों से नगर निगम के कर्मचारियों ने 1 लाख 31 हजार 500 रुपए चालान वसूला। सबसे ज्यादा 94 लोग कोरोना संक्रमण का हॉट स्पॉट बन चुके जहांगीराबाद में लापरवाही बरतते हुए मिले, इनसे 15,700 रुपए वसूले गए। यह आंकड़ा बताता है कि जहांगीराबाद क्षेत्र में लापरवाही का सिलसिला जारी है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए घर से बाहर निकलते समय मास्क लगाना और सार्वजनिक स्थान पर नहीं थूकने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी है। सार्वजनिक स्थानों पर थूकने वालों के खिलाफ 1000 रुपए और मास्क नहीं पहनने पर 100 रुपए का चालान हो रहा है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने पर 500 रुपए का चालान हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.