Uncategorizedमनोरंजनविदेश

PAK प्रेसिडेंट हमारी फिल्म से खफा

आरिफ अल्वी बोले- सूर्यवंशी जैसी मूवी इस्लामोफोबिया बढ़ाती हैं, एक्ट्रेस मेहविश को भी इससे दिक्कत

अक्षय कुमार की हालिया रिलीज ‘सूर्यवंशी’ से पाकिस्तान परेशान है। राष्ट्रपति आरिफ अल्वी हों या एक्ट्रेस मेहविश हयात, सबको एक ही चीज खाए जा रही है कि इस ब्लॉकबस्टर से इस्लामोफोबिया बढ़ेगा। 5 नवंबर को रिलीज हुई यह मूवी भारत में 100 करोड़ रुपए की कमाई कर चुकी है और बॉक्स ऑफिस पर इसका शानदार सफर जारी है। पाकिस्तान में लोगों को दिक्कत यह है कि फिल्म में विलेन का नाम मुस्लिम क्यों रखा गया है। फिल्म के डायरेक्टर रोहित शेट्टी पहले ही इस मुद्दे पर सफाई दे चुके हैं।

एक नजर मामले पर
5 नवंबर को प्रोड्यूसर-डायरेक्टर रोहित शेट्टी की फिल्म सूर्यवंशी रिलीज हुई। बॉक्स ऑफिस पर इसने शानदार प्रदर्शन किया। फिल्म में अक्षय कुमार के अलावा कैटरीना कैफ, अजय देवगन और रणवीर सिंह भी हैं। फिल्म में विलेन का रोल प्ले कर रहे व्यक्ति का नाम मुस्लिम रखा गया है। खलनायक का नाम मुस्लिम होने पर कुछ लोगों को आपत्ति है।

रोहित शेट्टी से पिछले दिनों यह सवाल पूछा गया था। इस पर उन्होंने कहा था- अगर मेरी फिल्म का विलेन हिंदू कैरेक्टर होता तो क्या तब भी सवाल उठाए जाते? अगर पाकिस्तान से कोई आतंकवादी हमारे देश में आता है तो हम उसका नाम क्या रखते, उसका मजहब क्या होता? फिल्म की कहानी भी तो यही है कि पाकिस्तान से आए आतंकी को हमारे पुलिस अफसर पकड़ते हैं।

पाकिस्तान के राष्ट्रपति को दिक्कत
पाकिस्तान के सदर-ए-रियासत यानी प्रेसिडेंट आरिफ अल्वी ने सोशल मीडिया पर कहा- इस तरह का इस्लामोफोबिक कंटेंट भारत को ही तबाह करेगा। मुझे उम्मीद है कि भारत के समझदार लोग इस तरह की चीजों को रोकेंगे।

ऑस्कर के लिए नॉमिनेट हो चुके पाकिस्तान मूल के ब्रिटिश एक्टर रिज अहमद ने भी इस मुद्दे को उठाया और सोशल मीडिया कमेंट्स के साथ आपत्तिजनक इमोजी भी इस्तेमाल किया।

मेहविश हयात को भी दिक्कत
अकसर विवादों में रहने वाली पाकिस्तानी एक्ट्रेस मेहविश हयात इस विवाद में भी कूद पड़ीं। उन्होंने भी सोशल मीडिया का सहारा लिया और बताया कि उन्हें भी इस फिल्म के कंटेंट और मुस्लिम किरदार को लेकर परेशानी है। हयात के मुताबिक तो इस्लामोफोबिया का असर सिर्फ सिनेमा पर नहीं, बल्कि पूरी दुनिया पर हो रहा है। मेहविश ने लिखा- सूर्यवंशी बॉलीवुड की वो लेटेस्ट रिलीज है, जो इस्लामोफोबिया को बढ़ावा दे रही है। ये ट्रेंड हॉलीवुड से शुरू हुआ था। अगर हम मुस्लिमों का किरदार पॉजिटिव नहीं दिखा सकते तो कम से कम उनके किरदारों के साथ इंसाफ तो कर ही सकते हैं।

पाकिस्तान के ‘समा टीवी’ की एक रिपोर्ट में कहा गया- बॉलीवुड में मुस्लिमों को विलेन के तौर पर पेश करने का ट्रेंड फिल्म ‘उरी- द सर्जिकल स्ट्राइक’ से शुरू हुआ। 2019 में आई यह फिल्म ब्लॉक बस्टर साबित हुई थी। इसके बाद पाकिस्तान की निगेटिव इमेज ज्यादा दिखाई जाने लगी।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close