Uncategorizedभोपालमध्य-प्रदेश

CM ने बुलाई बैठक:कहा- लॉकडाउन नहीं

कोरोना कर्फ्यू है, कई गतिविधियों को छूट दी जा रही है, भोपाल पर हो सकता है फैसला

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने निवास पर भोपाल क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक बुलाई है। बैठक में काेराेना के हालातों को पर चर्चा के बाद राजधानी में लॉकडाउन बढ़ाने पर फैसला लिया जा सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि सरकार लॉकडाउन नहीं लगा रही है, बल्कि सामुदायिक संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए कोरोना कर्फ्यू लगाया जा रहा है। इस दौरान आर्थिक गतिविधियों से सहित कई सेक्टर में छूट दी जा रही है।

CM ने बताया कि अन्य राज्य से आवागमन पर कोई रोक नहीं है। मेडिकल और राशन की दुकानें, अस्पताल, नर्सिंग होम, बैंक, एटीएम, दूध, सब्जी की दुकानें, उद्योगों में मजदूर- माल आदि के आवागमन किसी प्रकार का प्रतिबंध नहीं है। उद्योग चलते रहेंगे। परीक्षा केंद्रों में जाने वाले विद्यार्थी, अन्य स्टाफ, एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड, दूरसंचार, बिजली सप्लाई, रसोई गैस सेवाएं भी चालू रखी गई हैं।

बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन एयरपोर्ट से आने जाने वाले नागरिक, आईटी कंपनियां बीपीओ, मोबाइल कंपनियों की यूनिट्स, अखबार वितरण, होटल (जिनमें रूम इन डाइनिंग हैं), उनपर प्रतिबंध नहीं है। इससे पहले राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए प्रदेश के हालातों की समीक्षा की। इस बैठक में मुख्यमंत्री के अलावा धर्मगुरु भी शामिल हुए।

बता दें कि मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण बेकाबू हो गया है। पिछले 24 घंटे में 5939 पॉजिटिव केस मिले हैं। इस दौरान 24 मौतें हुई। रतलाम, उज्जैन, बैतूल, छिंदवाड़ा, बड़वानी, बालाघाट, उमरिया, झाबुआ और कटनी में 100 से अधिक केस मिले हैं। प्रदेश में मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। पिछले 10 दिन में 186 लोागें की मौत कोरोना से हो चुकी है।

हमीदिया अस्पताल में 250 बेड बढ़ाए

मुख्यमंत्री ने बताया कि अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या लगातार बढ़ रही है।भोपाल में हमीदिया में 250 बिस्तर बढ़ रहे हैं। आरकेडीएफ भी अपने अस्पताल में कोरोना के बिस्तर प्रारंभ करेंगे और बाकी अस्पतालों से भी अलग-अलग जगह चर्चा चल रही है, इंदौर में भी चर्चा चल रही है बेड लगातार बढ़ रहे हैं। ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। ऑक्सीजन की जितनी आवश्यकता है उससे ज्यादा अभी आपूर्ति है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close